"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शनिवार, 13 जुलाई 2013

"नहीं आता" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मुझे तो छन्द और मुक्तक, बनाना भी नहीं आता।
ग़ज़ल में शैर और मक़्ता, लगाना भी नहीं आता।।

दिलों के बलबलों को मैं, भला अल्फ़ाज़ कैसे दूँ,  
मुझे लफ्ज़ों का गुलदस्ता, सजाना भी नहीं आता।

सुहाने साज मुझको, प्यार से आवाज़ देते हैं,
मगर मजबूर हूँ, इनको बजाना भी नहीं आता।

भरा है प्यार का सागर, मैं कैसे जाम में ढालूँ,
भरी गागर का पानी, मुझको छलकाना नहीं आता।

महकता है-चहकता है, ये ग़ुलशन खिलखिलाता है,
मुझे क्यारी में खारे जल को, टपकाना नहीं आता।

भयानक रूप पर, कोई फिदा कैसे भला होगा,
मुखौटा माँज-धोकर, मुझको चमकाना नहीं आता।

15 टिप्‍पणियां:

  1. एक बहुत ही प्रभावशाली एवँ उत्कृष्ट रचना ! अति सुंदर !

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत ही प्रबावी रचना, कुछ नहीं ज्ञात पर दिशा तो ज्ञात है।

    जवाब देंहटाएं
  3. मुझे तो छन्द और मुक्तक, बनाना भी नहीं आता।
    ग़ज़ल में शैर और मक़्ता, लगाना भी नहीं आता।।

    अपनी रचनाओं से आप कितनों के दिल को छूते हैं! इतनी सुंदर पंक्तियाँ लिखने के बावजूद आप लिखते हैं:
    दिलों के बलबलों को मैं, भला अल्फ़ाज़ कैसे दूँ,
    मुझे लफ्ज़ों का गुलदस्ता, सजाना भी नहीं आता।

    बहुत खूब लिखा है आपने, साधुवाद और बधाई!
    सृजन मंच पर दोहों पर चर्चा कर आपने बड़ा पुनीत कार्य किया है, उसके लिए फिर से एक बार आपको साधुवाद और बधाई! आपसे गुजारिश है कि कभी मुक्तकों पर भी यूँ ही चर्चा हो!
    सादर/साभार,
    डॉ. सारिका मुकेश

    जवाब देंहटाएं
  4. अर्थपूर्ण सुन्दर रचना!...आभार

    जवाब देंहटाएं
  5. मन के उदगार कैसे भी व्यक्त होने चाहिये
    गज़ल बहर के खेल से परे होने चाहिये

    जवाब देंहटाएं
  6. भयानक “रूप” पर, कोई फिदा कैसे भला होगा,
    मुखौटा माँज-धोकर,मुझको चमकाना नहीं आता।

    वाह !!! बहुत खूब,सुंदर गजल,,,

    RECENT POST : अपनी पहचान

    जवाब देंहटाएं
  7. मेरा नमन स्विकार करें...

    सुंदर भाव...


    यही तोसंसार है...




    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत बढ़िया प्रस्तुति बधाई आपको आदरणीय

    जवाब देंहटाएं
  9. आप को क्या क्या आता है आप नही इससे वाकिफ,
    लाजवाब लिखते हैं आप, पर मुझे कहना नही आता ।

    जवाब देंहटाएं
  10. apki kalam ney bata diya ki apko kya kya aata hai.....sunder abhivyakti

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails