"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 13 सितंबर 2020

अकविता "हिन्दी-दिवस" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

ओह!
कितनी जल्दी गुजर गया
पूरा सालभर
फिर से आ गया है
माह सितम्बर
--
इस बार भी होंगे
हिन्दी-दिवस के
बड़े-बड़े आयोजन
किन्तु सफल नही होगा
सच्चे साधकों का प्रयोजन
--

शान से हिन्दी पखवाड़े

काले अंग्रेज मनायेंगे
और हिन्दी-दिवस पर
अंग्रेजी में भाषण पिलायेंगे
--
स्वतन्त्र भारत में
हिन्दी का जन्म-दिवस
14 सितम्बर
यानि 'हिन्दी-दिवस'
--
कैसी है यह विडम्बना?
क्या यही है हमारी सम्वेदना?
--
हम हो गये हैं
दिमाग से दिगम्बर
हिन्दी दिवस का
महीना सितम्बर
--
हिन्दी त्यौहारों
होली, दिवाली राम-नवमी
दशहरा और कृष्ण-जन्माष्टमी
की भाँति हम

क्यों नहीं मना सकते

हिन्दी-दिवस?
जो चलता रहता
युगों-युगों तक
युगों-युगों तक!

7 टिप्‍पणियां:

  1. हिन्दी-दिवस?
    जो चलता रहता
    युगों-युगों तक
    युगों-युगों तक…!

    -प्रयासरत रहना है... नेताओं को समझाते रहना है...

    जवाब देंहटाएं
  2. हिंदी भाषी क्षेत्र को भी हिंदी दिवस मनाना पड़ता है। इससे बड़ी विडंबना और क्या होगी ,जो हमारे साँसों की धौंकनी है ,हमारा सहज रुदन और आवेश है उसे एक दिवस पखवाड़े की सीमा में आबद्ध करने की नाकाम कोशिश करते हैं हम लोग। kabirakhadabazarmein.blogspot.com 

    जवाब देंहटाएं
  3. नमस्ते,
    आपकी इस प्रविष्टि के लिंक की चर्चा सोमवार (14 सितंबर 2020) को '14 सितंबर यानी हिंदी-दिवस' (चर्चा अंक 3824) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्त्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाए।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    --
    -रवीन्द्र सिंह यादव


    जवाब देंहटाएं
  4. स्वतन्त्र भारत में
    हिन्दी का जन्म-दिवस
    14 सितम्बर
    यानि 'हिन्दी-दिवस'
    ...बहुत गंभीर प्रश्न किया है आपने अपनी रचना के माध्यम से। साधुवाद 🙏

    मैंने भी राष्ट्र भाषा के तारतम्य में एक लेख लिखा है। जिसका अंश है.....
    हमारे देश के तीन नाम हैं-भारत, हिन्दुस्तान और इंडिया। लेकिन अभाव है तो एक राष्ट्रभाषा का... मेरा यह पूरा लेख आप पढ़ सकते हैं मेरे ब्लॉग शरदाक्षरा पर। कृपया पधारिए -
    http://sharadakshara.blogspot.com/2020/09/blog-post_14.html?m=1

    जवाब देंहटाएं
  5. इस बार भी होंगे
    हिन्दी-दिवस के
    बड़े-बड़े आयोजन
    किन्तु सफल नही होगा
    सच्चे साधकों का प्रयोजन
    बहुत सुंदर और सटीक प्रस्तुति।

    जवाब देंहटाएं
  6. हिन्दी दिवस पर बहुत सटीक, विचारणीय सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  7. हिंदी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails