"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

गुरुवार, 3 सितंबर 2020

कवित्त "पूज्य पिताश्री को नमन" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

आश्विन द्वितीया
पूज्य पिता जी का श्राद्ध
--
तर्पण किया श्रद्धा और श्राद्ध से है आपका,
मेरे पूज्य पिता श्री आपको नमन है।
जीवन भर आपने जो प्यार और दुलार दिया,
मन की गहराइयों से आपको नमन है।
कबी भी अभाव का आभास नहीं होने दिया,
कर्म के पुजारी पूज्य तात को नमन है।
रहे नहीं भाग्य के भरोसे कभी जन्मभर,
उस सुगन्ध वाले पारिजात को नमन है।
--
आपके ही पथ का पथिक है सुत आपका,
दिव्य-आत्मा प्रकाश पुंज को प्रणाम है।
देव के समान सुख बाँटते रहे जो सदा,
ऐसे पालनहार को तो कोटिशः प्रणाम है।
जीने के जगत में सिखाये ढंग आपने,
ईश के समान मेरे देव को प्रणाम है।
मार्ग सुख सम्पदा के मुझको बताये सभी,
ऐसी मातृभूमि और पिताजी को प्रणाम है।
--

7 टिप्‍पणियां:

  1. पितृ पक्ष (पितर तुष्टि )हमारी अपनी तुष्टि अपने को ही अग्रेसित करना है पितृ शब्द पिता के पिता के पिता .......के मूल स्रोत तक जाता है इस प्रकार हम खुद एक प्रवाहमान धारा है जीवनखण्डों जीवन इकाइयों जीवन की बुनियादी इकाइयों के समुच्चय हैं हम लोग। We always are our genes and environments (ambience and tradition we carry genetically forward .श्रेष्ठ लेखन के नित नूतन आयाम लिए आते हैं हर दिल अज़ीज़ मेरे अज़ीमतर आदरणीय दोस्त शास्त्रीजी ,प्रणाम वीरुभाई के। blogpaksh2025.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  2. पितृ पक्ष में पूर्वजों का श्राद्ध शृद्धा से संपन्न करना मनाना (पितर तुष्टि )हमारी अपनी तुष्टि अपने को ही अग्रेसित करना है पितृ शब्द पिता के पिता के पिता ..के परदादा के परदादा के .....के मूल स्रोत तक जाता है इस प्रकार हम खुद एक प्रवाहमान धारा है जीवनखण्डों जीवन इकाइयों जीवन की बुनियादी इकाइयों के समुच्चय हैं हम लोग।लेकिन केवल इतना भर नहीं है श्राद्ध इस परम्परा का संवर्धन है।

    We always are our genes and environments (ambience and tradition we carry genetically forward . Observance of Shraddh In Pitri Paksh is enrichments of basic units of life and our roots .

    श्रेष्ठ लेखन के नित नूतन आयाम लिए आते हैं हर दिल अज़ीज़ मेरे अज़ीमतर आदरणीय दोस्त शास्त्रीजी ,प्रणाम वीरुभाई के।
    blogpaksh2025.blogspot.com:

    एक प्रतिक्रिया ,टिपण्णी शास्त्री जी की उल्लेखित रचना पर :

    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree
    Image result for banyan tree

    कवित्त "पूज्य पिताश्री को नमन" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
    आश्विन द्वितीया
    पूज्य पिता जी का श्राद्ध

    --
    तर्पण किया श्रद्धा और श्राद्ध से है आपका,
    मेरे पूज्य पिता श्री आपको नमन है।
    जीवन भर आपने जो प्यार और दुलार दिया,
    मन की गहराइयों से आपको नमन है।
    कभी भी अभाव का आभास नहीं होने दिया,
    कर्म के पुजारी पूज्य तात को नमन है।
    रहे नहीं भाग्य के भरोसे कभी जन्मभर,
    उस सुगन्ध वाले पारिजात को नमन है।
    --
    आपके ही पथ का पथिक है सुत आपका,
    दिव्य-आत्मा प्रकाश पुंज को प्रणाम है।
    देव के समान सुख बाँटते रहे जो सदा,
    ऐसे पालनहार को तो कोटिशः प्रणाम है।
    जीने के जगत में सिखाये ढंग आपने,
    ईश के समान मेरे देव को प्रणाम है।
    मार्ग सुख सम्पदा के मुझको बताये सभी,
    ऐसी मातृभूमि और पिताजी को प्रणाम है।

    जवाब देंहटाएं
  3. Virendra Sharma
    Today at 9:27 AM ·
    Shared with Public
    veerujichiththaa.blogspot.com
    पितृ पक्ष में पूर्वजों का श्राद्ध शृद्धा से संपन्न करना मनाना (पितर तुष्टि )हमारी अपनी तुष्टि अपने को ही अग्रेसित करना है पितृ शब्द पिता के पिता के पिता ..के परदादा के परदादा के .....के मूल स्रोत तक जाता है इस प्रकार हम खुद एक प्रवाहमान धारा है जीवनखण्डों जीवन इकाइयों जीवन की बुनियादी इकाइयों के समुच्चय हैं हम लोग।लेकिन केवल इतना भर नहीं है श्राद्ध इस परम्परा का संवर्धन है।
    We always are our genes and environments (ambience and tradition we ca… See More

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails