"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 6 मई 2011

"मेरे मन को भाते हैं" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


वो अनजाने से परदेशी!
मेरे मन को भाते हैं।
भाँति-भाँति के कल्पित चेहरे,
सपनों में घिर आते हैं।। 
पतझड़ लगता है वसन्त,
वीराना भी लगता मधुबन,
जब वो घूँघट में से अपनी,
मोहक छवि दिखलाते हैं।
भाँति-भाँति के कल्पित चेहरे,
सपनों में घिर आते हैं।। 
 उनकी आहट पाकर गुनगुन,
गाने लगता भँवरा गुंजन,
शोख-चटक कलिका बनकर,
वो उपवन में मुस्काते हैं।
भाँति-भाँति के कल्पित चेहरे,
सपनों में घिर आते हैं।।
 चकाचौंध कर देने वाली,
होती उनकी चमक निराली,
आसमान की छाती पर,
जब काले बादल छाते हैं।
भाँति-भाँति के कल्पित चेहरे,
सपनों में घिर आते हैं।।
अँखियाँ देतीं मौन निमन्त्रण,
बिन पाती का है आमन्त्रण,
सपनों की दुनिया को छोड़ो,
मन से तुम्हे बुलाते हैं।
भाँति-भाँति के कल्पित चेहरे,
सपनों में घिर आते हैं।। 

17 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह्…………आज तो बहुत ही मधुर और मनमोहक रचना लगाई है जो गुनगुनाई जा सकती है…………शानदार्।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खूब सुरत है आज की रचना शास्त्री जी --मुझे अंदाजा नही था की आप इतनी अच्छी कविता भी लिख सकते है ---आपका बहुत -बहुत आभार !धन्यवाद ...

    जवाब देंहटाएं
  3. 'अंखियाँ देती मौन निमंत्रण'

    आपने इतनी अच्छी बात सुनाई भी तो ऐसे मौके पर जबकि कल हम लखनऊ जा रहे हैं । अब आपकी पंक्तियों पर आचरण तो हम लौटकर ही कर पाएँगे ।
    धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
  4. स्वप्नों में आ जाने वाले सच में भी आ जाते हैं।

    जवाब देंहटाएं
  5. सपनों की दुनिया को छोड़ो,
    मन से तुम्हे बुलाते हैं।
    बहुत ही मधुर और मनमोहक रचना आभार !

    जवाब देंहटाएं
  6. ye sundar geet to gunagunane vala hai . sundar geet dene ke liye aabhar .

    जवाब देंहटाएं
  7. waah bahut hi utam ebam khusurat rachna....badhai...kre siwkar

    जवाब देंहटाएं
  8. बरबस गाने-गुनगुनाने को जी कर रहा है - अति सुंदर - शास्त्री जी बधाई स्वीकारें

    जवाब देंहटाएं
  9. saras saumya rachana -

    भाँति-भाँति के कल्पित चेहरे,
    सपनों में घिर आते हैं।।

    sunder ...
    aabhar .

    जवाब देंहटाएं
  10. भांति-भांति के कल्पित चेहरे सपनों में आ जाते हैं ।
    सुन्दर कविता...

    जवाब देंहटाएं
  11. ब्लॉग जगत में पहली बार एक ऐसा सामुदायिक ब्लॉग जो भारत के स्वाभिमान और हिन्दू स्वाभिमान को संकल्पित है, जो देशभक्त मुसलमानों का सम्मान करता है, पर बाबर और लादेन द्वारा रचित इस्लाम की हिंसा का खुलकर विरोध करता है. साथ ही धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले हिन्दुओ का भी विरोध करता है.
    इस ब्लॉग पर आने से हिंदुत्व का विरोध करने वाले कट्टर मुसलमान और धर्मनिरपेक्ष { कायर} हिन्दू भी परहेज करे.
    समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    .
    जानिए क्या है धर्मनिरपेक्षता
    हल्ला बोल के नियम व् शर्तें

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails