"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

गुरुवार, 15 अप्रैल 2021

दोहे "महापर्व में कुम्भ के, मिलता मन को चैन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
कुम्भ शब्द बहुविकल्पी, जिसके अर्थ अनेक।
मन में होना चाहिए, श्रद्धाभाव-विवेक।।
--
कुम्भराशि में हो गुरू, मेष राशि में सूर्य।
तभी चमकती वो धरा, जैसे हो वैदूर्य।।
--
सागर मंथन में मिला, अमृत का जो पात्र।
उसे हड़पने के लिए, पीछे पड़े कुपात्र।।
--
सुधा कुम्भ को ले उड़ा, नभ में देव जयन्त।
उसे छीनने के लिए, चले दैत्य के कन्त।।
--
हुआ युद्ध आकाश में, दैत्य गये थे हार।
जहाँ गिरे कुछ सुधा-कण, धाम बने वो चार।।
--
नासिक और प्रयाग या, हरिद्वार-उज्जैन।
महापर्व में कुम्भ के, मिलता मन को चैन।।
--
कुम्भ सनातन धर्म का, होता पर्व विशेष।
करके जल का आचमन, छोड़ दीजिए द्वेष।।
--
अर्द्धकुम्भ या कुम्भ की, महिमा अपरम्पार।
श्रद्धा से ही चल रहा, जग का कारोबार।।
--

12 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 16-04-2021) को
    "वन में छटा बिखेरते, जैसे फूल शिरीष" (चर्चा अंक- 4038)
    पर होगी। आप भी सादर आमंत्रित हैं।
    धन्यवाद.


    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर, कुंभ की महिमा अपार

    जवाब देंहटाएं
  3. अर्द्धकुम्भ या कुम्भ की, महिमा अपरम्पार।
    श्रद्धा से ही चल रहा, जग का कारोबार।।

    बहुत ही सुंदर

    जवाब देंहटाएं
  4. सभी दोहे कुंभ की महिमा को मंडित करने वाले और धर्म के प्रति आस्था बढ़ाने वाले हैं।
    अर्द्धकुम्भ या कुम्भ की, महिमा अपरम्पार।
    श्रद्धा से ही चल रहा, जग का कारोबार।।

    यह दोहा सर्वाधिक पसंद आया है मुझ।
    या फिर भूल सकते हैं कि धर्म हो या कुंभ रूपी उत्सव सभी श्रद्धा से ही सम्बद्ध हैं..। 🙏

    सादर,
    डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
  5. कुम्भ का इतिहास और महत्व बताती सुंदर रचना !

    जवाब देंहटाएं
  6. आदरणीय शास्त्री जी, कुंभ के8 महिमा को बहुत ही सुंदर तरीके से व्यक्त किया है आपने। लेकिन अभी कोरोना में जो लोग कुंभ जा रहे है उनकी नासमझी की सजा पूरे देशवासियो को भुगतनी पड़ेगी। काश, उन लोगो को हम समझा पाते।

    जवाब देंहटाएं
  7. कुम्भ सनातन धर्म का, होता पर्व विशेष।
    करके जल का आचमन, छोड़ दीजिए द्वेष।।
    --
    अर्द्धकुम्भ या कुम्भ की, महिमा अपरम्पार।
    श्रद्धा से ही चल रहा, जग का कारोबार।।

    महाकुंभ को व्याख्यायित करते सुंदर दोहे...

    जवाब देंहटाएं
  8. कुंभ के महत्व को समझाती तथा प्रासंगिक करती सुंदर रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  9. कुंभ के अर्थों पर प्रकाश ड़ालते सटीक दोहे।
    शानदार सृजन।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails