"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

गीत "डरा रहा देश को है करोना" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
धधक उठा उठा है आपदा से,
हमारे उपवन का कोना-कोना।
बहक उठी क्यारियाँ चमन में,
दहक रहा है चमकता सोना।।
--
चमक रहा है गगन-पटल पर,
सात-रंगी धनुष निराला,
बरस रहे हैं बदरवा रिम-झिम,
निगल रहे हैं दिवस उजाला,
नजर जमाने की लग न जाए,
लगाया नभ पर बड़ा डिठोना।
बहक उठी क्यारियाँ चमन की,
दहक रहा है चमकता सोना।।
--
ठुमक रहे हैं मयूर वन में,
दमक रही दामिनी गरज कर,
सहम रहे हैं सुहाने पर्वत,
डरा रहा घन लरज-लरजकर,
उबल रहे हैं नदी-सरोवर,
उजड़ गया है सुखद बिछौना।
बहक उठी क्यारियाँ चमन की,
दहक रहा है चमकता सोना।।
--
कहीं धूप है, कहीं हैं छाया,
कहीं है बारिश, कहीं है बादल,
सरहदों पर अब वतन की,
फिजाएँ लगती हैं आज पागल,
डरा रहा देश को है करोना।।
बहक उठी क्यारियाँ चमन की,
दहक रहा है चमकता सोना।।
--
सिसक रहे हैं सुहाने मंजर,
चहल-पहल ने किया किनारा,
खामोश हैं आरती-अजाने,
नहीं आस का आसमां में तारा,
आपदा में हुआ है मुश्किल,
जिन्दगी के वजन को ढोना।
बहक उठी क्यारियाँ चमन की,
दहक रहा है चमकता सोना।।
--

7 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा शनिवार (२९-०८-२०२०) को 'कैक्टस जैसी होती हैं औरतें' (चर्चा अंक-३८०८) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  2. वर्तमान हालात का यथार्थ वर्णन

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत बढ़ रही है आपदा! सही है .

    जवाब देंहटाएं
  4. सिसक रहे हैं सुहाने मंजर,
    चहल-पहल ने किया किनारा,
    खामोश हैं आरती-अजाने,
    नहीं आस का आसमां में तारा,
    आपदा में हुआ है मुश्किल,
    जिन्दगी के वजन को ढोना।
    बहक उठी क्यारियाँ चमन की,
    दहक रहा है चमकता सोना।
    बहुत ही सुन्दर समसामयिक सृजन।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails