"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

सोमवार, 7 अक्तूबर 2019

दोहे "गयी बुराई हार?" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
विजयादशमी ने दिया, दुनिया को उपहार।
अच्छाई के सामने, गयी बुराई हार।।
--
विजयादशमी विजय का, पावन है त्यौहार।
आज झूठ है जीतता, सत्य रहा है हार।।
--
रावण के जब बढ़ गये, भू पर अत्याचार।
लंका में जाकर उसे, दिया राम ने मार।।
--
तब से पुतले दहन का, बढ़ता गया रिवाज।
मन का रावण आज तक, जला न सका समाज।।
--
आज भोग में लिप्त हैं, योगी और महन्त।
भोली जनता को यहाँ, भरमाते हैं सन्त।।
--
दावे करते हैं सभी, बदलेंगे तकदीर।
अपनी रोटी सेंकते, राजा और वजीर।।
--
मनसा-वाचा-कर्मणा, नहीं सत्य भरपूर।
आम आदमी मजे से, आज बहुत है दूर।।
--

4 टिप्‍पणियां:

  1. उपासना, कन्यापूजन, यज्ञ- हवन के साथ नवरात्र पर्व का कल समापन हो गया है। आज विजयादशमी मनाने की तैयारी में हमसभी जुटे हुये हैं। परंपरा के अनुरूप रावण के विशालकाय पुतले बनाये जा रहे हैं। आतिशबाजी कर पटाखों के माध्यम से उसे आग के हवाले किया जाएगा। बच्चे ताली बजकर इसका स्वागत करेंगे और बड़े लोगों में से कितने है कि शाम ढलते -ढलते शराब के नशे में झूम बराबर झूम शराबी के नाट्य मंचन में जुट जाएँगे।
    सवाल यह है कि महापराक्रमी, महाज्ञानी एवं एक अतिसमृद्ध राष्ट्र के शासक रावण का पुतला तो हम हजारों वर्ष से जलाते आ रहे हैं, परंतु अपने हृदय में छिपे बैठे रावण (अहंकार, लोभ, मोह एवं स्वार्थ ) को हम कब मारेंगे। रावण सर्वगुण संपन्न होकर भी दूसरों की संपत्ति के प्रति लोलुपता के कारण समाज में तिरस्कृत हुआ और उसके अहंकार का परिणाम यह रहा कि वह अपने वंश सहित नष्ट हो गया।
    वहीं , इस अर्थयुग में हममें से अनेक भी तो यही कर रहे हैं। अवैध तरीके से दूसरों की और राष्ट्रीय सम्पत्ति को अपना समझ हड़प रहे हैं।जिसपर जनता का अधिकार होना चाहिए ,उसपर राजनेता और नौकरशाह कब्जा किये बैठे हैं।भूमाफिया, खनन माफिया और भी न जाने कितने प्रकार के सफेदपोश बाहुबलियों से सरकारी विभाग कंपित है। शासन- प्रशासन में आजादी के बाद से ही मौसेरे भाई का जो खेल शुरू है, वह चरम पर है। शोषित-पीड़ित जनता को न्याय नहीं मिल पा रहा है। सड़के बनते ही टूट जा रही हैं। विकास से जुड़ी कोई भी सामग्री निर्मित हो रहा है, तो उसकी गुणवत्ता की जाँच को लेकर जनप्रतिनिधि कुछ इस तरह से मौन हो जाते हैं कि उन्हें तो कोई घोटला उसमें दिख ही नही रहा हो । तो फिर हे ! ये ज्ञान- ध्यानी संतजन ,किस रावण के वध का उत्सव मनाते हैं।
    सरकार कहती है कि हमने अच्छे दिन ला दिये है। आप किसी भी दुकान पर चले जाए और वहाँ काम करने वाले किसी कर्मचारी से पूछे कि जब से नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री बने हैं उसके वेतन में कितनी वृद्धि हुई है। इस अच्छे दिन का राज आप सभी स्वयं जान जाएँगे। अरे भाई ! अब तो नौकरियाँ कम होती जा रही हैं। खैर, आज सायं रावण का पुतला दहन करते समय हम भी अपने मन को टटोलें , कहीं कोई दशानन हमारे हृदय में तो नहीं छिपा है।
    यदि हम राम नहीं हैं, तो रावण के पुतला दहन का जश्न मनाने का भी हमें अधिकार नहीं है।
    इन्हीं चंद शब्दों के साथ विजयदशमी पर्व की शुभकामनाएँ।




    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर दोहे
    वर्तमान समय की नब्ज टटोलते
    सादर

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails