"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

बुधवार, 4 दिसंबर 2019

दोहे "परिणय को अपने हुए, पूर्ण छियालिस वर्ष" (5 दिसम्बर)



--
परिणय को अपने हुए, आज छियालिस वर्ष।
मिल-जुलकर परिवार को, हमने बाँटा हर्ष।।
--
चलती जीवन-संगिनी, कदम मिलाकर साथ।
उसके ही अस्तित्व से, कहलाये हम नाथ।।
--
जीवन के पथ में बहुत, देखे हमने मोड़।
मंजिल पर बढ़ते गये, छोड़ समय की होड़।।
--
रखना सब पर हे प्रभो, दया-दृष्टि अनुकूल।
जगतनियन्ता आपसे, खिलें खुशी के फूल।।
--
हम दोनों का हो भले, ढला सलोना रूप।
लेकिन जीवन की अभी, खिली हुई है धूप।।
--
उलझन आती ही रही, मगर न मानी हार।
सीमित रखा सदैव ही, हमने निज परिवार।।
--
पोती-पोता और सुत, सब रहते हैं साथ।
उन सब पर आशीष के, रखना मालिक हाथ।।
--

10 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 5.12.2019 को चर्चा मंच पर चर्चा - 3560 में दिया जाएगा । आपकी उपस्थिति मंच की गरिमा बढ़ाएगी ।

    धन्यवाद

    दिलबागसिंह विर्क

    जवाब देंहटाएं

  2. पोती-पोता और सुत, सब रहते हैं साथ।
    उन सब पर आशीष के, रखना मालिक हाथ।।

    सर्वप्रथम सफल वैवाहिक जीवन के 47वीं वर्षगाँठ पर बहुत सारी शुभकामनाएँ आपको गुरु जी ।
    यह अत्यंत हर्ष का विषय है कि आपने इस अर्थयुग में बिखरते पारिवारिक संबंधों से इतर भारतीय प्राचीन परम्परा के अनुरूप संयुक्त परिवार को कायम रखा है।
    यह आप जैसे अभिभावक का संस्कार ही है , जिसका अनुसरण परिवार के शेष सदस्य कर रहे हैं। इस आदर्श परिवार को मेरा नमन एवं वंदन..।
    --
    संयुक्त परिवार तभी तक कायम रहता है , जब गृहस्वामी अपने कर्तव्य के प्रति ईमानदार एवं कनिष्ठ सदस्य उसके प्रति आज्ञाकारी हो । परिवार के सभी सदस्यों में एकदूसरे के प्रति त्याग की भावना हो। ऐसे परिवार में सदैव उत्सव एवं उत्साह का वातावरण रहता है।
    ----

    सुखी दांपत्यजीवन का आधार यह है कि पतिपत्नी आपस में बोलचाल में मेरा और तेरा ये दोनों ही शब्द निकाल दें, इससे उनका जीवन सुखमय हो जाता है।
    वे प्रेम के साथ ही एक दूसरे के प्रति आदर, भरोसा और आत्मसमर्पण की भावना भी रखें।
    यह ऐसा उपवन होता है जिसमें बसंत एवं पतझड़ दोनों ही है । अतः दोनों से ही प्रेम करना चाहिए

    जवाब देंहटाएं
  3. विवाह वर्षग़ाँठ पर मंगलकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  4. सफल वैवाहिक जीवन की हार्दिक शुभकामनाएं आ0
    अति उत्तम दोहे के सृजन

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही पुनीत अवसर है आदरणीय बहुत-बहुत बधाई आप दोनों को ,अवसर के अनुरूप सुंदर दोहे जिनमें जीवन सार समेटा है आपने ।
    पुनः अनंत शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत बहुत शुभकामनायें, आप स्वर्ण जयंती से ज्यादा दूर नहीं हैं, बहुत भाग्यशाली होने पर ही यह सौभाग्य मिलता है

    जवाब देंहटाएं
  7. हम दोनों का हो भले, ढला सलोना रूप
    लेकिन जीवन की अभी, खिली हुई है धूप।।

    बहुत ही सुंदर भावों से सजी रचना ,शादी की सालगिरह मुबारक हो सर ,आप दोनों को भरेपूरे परिवार की अनंत शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  8. विवाहित जीवन की छियालीसवीं वर्षगांठ पर हमारी ओर से ढेरों बधाइयाँ. आप दोनों स्वस्थ रहें, ख़ुश रहें, लिखते रहें और हमारा मार्गदर्शन करते रहें सर.
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  9. सादर नमन सर।

    सम्माननीय दंपति को

    शादी की छियालीसवीं सालगिरह की अशेष मंगलकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  10. 🎊🎊🎉🎉 बहुत बहुत बधाई आदरणीय गुरुजी। आपका परिवार शानदार और प्यारा है। आपकी ये प्यारी सी जोड़ी अटल और अमर हो 💞💞 यही दुआ है 🙏🙏🙏 सपरिवार सदा मुस्कुराते रहिये 🥞🥞🌹🌹💐💐🌹🌹🥞🥞🌹🙏🙏

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails