"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

मंगलवार, 18 अगस्त 2009

‘‘घर में पानी, बाहर पानी’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

खटीमा में बाढ़ के ताज़ा हालात के लिए लिंक
http://uchcharandangal.blogspot.com/2009/08/blog-post_18.html

http://uchcharandangal.blogspot.com/2009/08/blog-post_17.html


जब सूखे थे खेत-बाग-वन,
तब रूठी थी बरखा-रानी।
अब बरसी तो इतनी बरसी,
घर में पानी, बाहर पानी।।

बारिश से सबके मन ऊबे,
धानों के बिरुए सब डूबे,
अब तो थम जाओ महारानी।
घर में पानी, बाहर पानी।।

दूकानों के द्वार बन्द हैं,
शिक्षा के आगार बन्द है,
राहें लगती हैं अनजानी।
घर में पानी, बाहर पानी।।

गैस बिना चूल्हा है सूना,
दूध बिना रोता है मुन्ना,
भूखी हैं दादी और नानी।
घर में पानी, बाहर पानी।।

बाढ़ हो गयी है दुखदायी,
नगर-गाँव में मची तबाही,
वर्षा क्या तुमने है ठानी।
घर में पानी, बाहर पानी।।


22 टिप्‍पणियां:

  1. बाढ की विनाश लीला का बहुत सटीक सचित्र वर्णन किया....रचना मे इस त्रास्दी को सही उभारा है।

    जवाब देंहटाएं
  2. बस इतना ही कह सकता हूं...वाह, वाह और वाह...
    आपने दोपहर को जो बाढ़ की बात कही तो समझ नहीं पाया कि उत्तरांचल के आपके नगर में बाढ़ आई है....

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह वाह क्या बात है! आपकी लेखनी को सलाम शास्त्री जी! क्या खूब लिखा है आपने बाढ पर! चारों तरफ़ सिर्फ़ पानी ही पानी अगर हो तो हर चीज़ के लिए मुश्किल खड़ी हो जाती है!

    जवाब देंहटाएं
  4. अभी मत थामिए पानी ...बड़ी मुश्किल से बरसा है ..न हो तो बादलों को मरुभूमि की ओर रवाना कर दे ...!!

    जवाब देंहटाएं
  5. AAPNE TO BADI DIL DAHALANE WALI TASBIRON KE SATH BADI JEEVANT POST LAGAI HAI.
    BHAGWAN SABKI RAKSHA KAREN.

    जवाब देंहटाएं
  6. ढ मे भी इतनी सुरीली कविताए लिख रहे हैं. इस पानी को हमारी ओर मोड दें जी.:)

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  7. पानी तेरे रूप अनेक.......कभी जीवन की एक आस है पानी और कभी विनाश है पानी...

    regards

    जवाब देंहटाएं
  8. शास्त्री जी गजब का चित्रकन किया है आपने भगवान् सबका भला करे तो कैसे ?

    जवाब देंहटाएं
  9. जीवन त्रस्त हो जाये,इतना भी न बरसो
    सुखी ज़िन्दगी हो जाये
    इतना भी न तरसाओ.......
    बहुत ही अच्छी रचना

    जवाब देंहटाएं
  10. बडी विचित्र लीला है भगवान की .. खैर 19 के बाद कम होने के आसार हैं .. हो भी रहे हों शायद !!

    जवाब देंहटाएं
  11. itne bhayanak halat hon aur usse khud bhi joojh rahe hon aur aise mein bhi kavita sirf shastri ji aap hi likh sakte hain...........itne bhayvah halat hain .......charon taraf pani hi pani hai..........tasveeron ke madhyam se sahi chitran kiya hai halat ka.
    aapko aur aapke sahas ko naman hai.

    जवाब देंहटाएं
  12. bahut hi samsamyik hai .........aapke lekhani ko pranaam hai ..........atisundar

    जवाब देंहटाएं
  13. अत्यंत सुन्दर रचना है बधाई स्वीकार करें !

    जवाब देंहटाएं
  14. कहां पानी बरस नहीं रहा था, कहां बरसा तो--।
    ( Treasurer-S. T. )

    जवाब देंहटाएं
  15. बाप से.. कहीं इतना और कहीं कुछ नहीं..

    जवाब देंहटाएं
  16. GHAR MEIN PANI BAHAR PANI
    ESKO KAVITA KAHU YA ZINDGI.
    REALLY YOU HAVE PENNED IT WELL.
    SPELL BOUND OBE.
    VERY VERY GOOD
    THANKS
    RAMESH SACHDEVA

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails