"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

सोमवार, 10 अगस्त 2009

‘‘बन्दी है आजादी अपनी, छल के कारागारों में’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


बन्दी है आजादी अपनी, छल के कारागारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।

नीचे से लेकर ऊपर तक, भ्रष्ट-आवरण चढ़ा हुआ,
झूठे, बे-ईमानों से है, सत्य-आचरण डरा हुआ,
दाल और चीनी भरे पड़े हैं, तहखानों आगारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।

नेताओं की चीनी मिल हैं, नेता ही व्यापारी हैं,
खेतीहर-मजदूरों का, लुटना उनकी लाचारी हैं,
डाकू, चोर, लुटेरे बैठे, संसद और सरकारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।

आजादी पूँजीपतियों को, आजादी सामन्तवाद को,
आजादी ऊँची-खटियों को, आजादी आतंकवाद को,
निर्धन नारों में बिकता है, गली और बाजारों में।
मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।
(चित्र गूगल सर्च से साभार)

17 टिप्‍पणियां:

  1. आज़ादी को इतने साल हुए .. पर कहा है आज़ादी ? हर जगह भ्रष्टाचार , चोरी और लाचारी ...

    सही चित्रण किया है आपने आजाद हिंद का ...!

    जवाब देंहटाएं
  2. darpan dikha diya mayankji aapne ..........
    khoob
    bahut khoob !
    abhinandan aapka !

    जवाब देंहटाएं
  3. हर शाख पे उल्लू बैठा है ,
    तो अंजाम-ऐ-गुलिस्तान क्या कहिये ??

    जब हर गली में नेता रहेता है ,
    तो अंजाम-ऐ-हिंदुस्तान क्या कहिये ??

    हुकुमरानों की भीड़ में,जो नहीं कोई रहेनुमा ,
    तो अंजाम-ऐ-नौजवान क्या कहिये ??

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी लगी आपकी ये रचना! तस्वीर बहुत सुंदर है और सच्चाई का प्रतीक है! हमारे देश को साठ साल से भी ज़्यादा हो गए आज़ादी मिली फिर भी चोरी, लूटमार, भ्रष्टाचार इत्यादि फैला हुआ है!

    जवाब देंहटाएं
  5. आजादी पूँजीपतियों को, आजादी सामन्तवाद को,
    आजादी ऊँची-खटियों को, आजादी आतंकवाद को,
    निर्धन नारों में बिकता है,गली और बाजारों में।
    मैला-पंक समाया है, निर्मल नदियों की धारों में।।

    sampoorn rachna sarahneey hai. ojpoorn rachna ke liye dil se badhai!

    जवाब देंहटाएं
  6. बिल्कुल ठीक कह रहे हैं. पूरी तरह सहमत.

    जवाब देंहटाएं
  7. मंयक जी किसी एक लाईन के लिये कहू तो पूरी्रचना के साथ अन्याय होगा बहुत ही सटीक अभिव्यक्ति है आज कल जो आजादी की दुरगति हो रही है उनका सही चित्रन किया है आभार्

    जवाब देंहटाएं
  8. दिन बा दिन बढ रही है , भूख बेचारी, लाचार, भिखारी , बलात्कारी, व्यभिचारी , क्या कहिये?

    जवाब देंहटाएं
  9. desh ke aaj ke halat ka aapne bahut hi satik chitran kiya hai...........aaj bhi hum bhrashtachar,beimaani,jhooth fareb ke gulaam hain ......phir aazadi hai kahan aur kiske liye hai........shayad netaon ke liye hi aazadi hai baki aam janta ka to wo hi haal hai.

    जवाब देंहटाएं
  10. नेताओं की चीनी मिल हैं,नेता ही व्यापारी
    खेतीहर-मजदूरों का, लुटना उनकी लाचारी हैं

    SACH MEIN ASLI AAJAADI TAB HOGI JAB IN BHRASHT NETAAON SE CHUTTI MILEGI.... YE NETAA BHI ANGREZON SE KAM NAHI HAIN.....LAJAWAAB POST HAI AAPKI

    जवाब देंहटाएं
  11. कटु सत्य को उजागर करती रचना. आभार.

    जवाब देंहटाएं
  12. GALI GALI KOHARAM MACHA HAIN .SANS SANS PER PEHRA HAIN. PHIR BHI HUM KEHATE NAHI THAKATE KITENA DAUR SUNEHARA HAIN.

    जवाब देंहटाएं
  13. मयंक जी।
    इस हकीकत से भरे गीत के लिए,
    शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  14. मयंक जी।
    इस बढ़िया गीत के लिए,
    शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  15. कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामना और ढेरो बधाई .

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails