"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

बुधवार, 19 अगस्त 2009

‘‘पड़ोसी से पड़ोसी का, हमें रिश्ता निभाना है’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


जमाना है तो हम-तुम हैं, जमाना तो जमाना है।
यहीं पर हर बशर को, भाग्य अपना आजमाना है।।

कहीं रातें उजाली हैं, दिवस में भी अन्धेरा है,
खुले जब आँख तो समझो, तभी आया सवेरा है,
परिन्दे को बहुत प्यारा, उसी का आशियाना है।
यहीं पर हर बशर को, भाग्य अपना आजमाना है।।

अगर है प्यार दोजख़ में, तो जन्नत की जरूरत क्या?
बिना माँगे मिले जब सब, तो मन्नत की जरूरत क्या?
मुहब्बत की नई राहों को, दुनिया को दिखाना है।
यही पर हर बशर को, भाग्य अपना आजमाना है।।

जो अपने दिल की यादों को बगीचों में सजाते हैं,
नियम से पेड़-पौधों को जो उपवन में उगाते है,
खुशी से हर कली को फूल बनकर मुस्कराना है।
यहीं पर हर बशर को, भाग्य अपना आजमाना है।।

कुटिलता की कहानी को हमें कहना नही आता,
हमें अन्याय-अत्याचार को सहना नही आता,
यही सन्देश दुनिया भर को गा करके सुनाना है।
यहीं पर हर बशर को, भाग्य अपना आजमाना है।।

जिन्हें अपना फटा दामन कभी सीना नही आया,
सलीके से सुखी होकर जिन्हें जीना नही आया,
उन्हें सदभावना का मन्त्र हमको ही सिखाना है।
यहीं पर हर बशर को, भाग्य अपना आजमाना है।।

जिन्हें बढ़ने की आदत है, उन्हे रुकना नही आता,
जिन्हें लड़ने की आदत है, उन्हें झुकना नही आता,
पड़ोसी से पड़ोसी का, हमें रिश्ता निभाना है।
यहीं पर हर बशर को, भाग्य अपना आजमाना है।।

16 टिप्‍पणियां:

  1. जिन्हें बढ़ने की आदत है, उन्हे रुकना नही आता,
    जिन्हें लड़ने की आदत है, उन्हें झुकना नही आता,
    अच्छी अभिव्यक्ति प्रदान की कविता मे. सार्थक सोच की कविता

    जवाब देंहटाएं
  2. शानदार अभिव्यक्ति..बहुत सुन्दर रचना ..!!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुंदर और भावपूर्ण रचना! बहुत अच्छा लगा पड़कर!

    जवाब देंहटाएं
  4. अच्छी रचना की तारीफ़ करने की हमे भी आदत है,

    और करेंगे भी,ऐसा किये बिना मज़ा भी नही आता है।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर लगा! पढ़कर बहत आनंद मिला!

    जवाब देंहटाएं
  6. मयंक जी लाजवाब रचना है हैरान हूँ कि इतनी जल्दी इतनी बढिया रचना कैसे लिख लेते हैं जिन्हें बढ़ने की आदत है, उन्हे रुकना नही आता,
    जिन्हें लड़ने की आदत है, उन्हें झुकना नही आता,
    लाजवाब बधाई

    जवाब देंहटाएं
  7. bahut hi shandar bahvpoorna lajawaab rachna hai..........badhayi.

    जवाब देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  9. 'जिन्हें बढ़ने की आदत है, उन्हे रुकना नही आता,
    जिन्हें लड़ने की आदत है, उन्हें झुकना नही आता,'
    -यह बुलंद हौसला पसंद आया.

    'पड़ोसी से पड़ोसी का, हमें रिश्ता निभाना है।'
    - यह रिश्ता दोतरफा होना चाहिए, अलबता एक कुछ अधिक दरिया दिल हो सकता है, लेकिन एक सीमा तक ही.

    जवाब देंहटाएं
  10. कहीं रातें उजाली हैं, दिवस में भी अन्धेरा है,
    खुले जब आँख तो समझो, तभी आया सवेरा है

    सच कहा ... जब nend khule tabhi saveraa ........... लाजवाब लिखा है

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails