"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

सोमवार, 31 अगस्त 2009

‘‘खारों को हमने मान लिया सिर्फ फूल है’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


हमने बनाए जिन्दगी में कुछ उसूल हैं।
गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

हमने तो पड़ोसी को अभय-दान दिया है,
दुश्मन को दोस्त जैसा सदा मान दिया है,
बस हमसे बार-बार हुई ये ही भूल है।
गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

साबुन से धोया हमने गधों को हजार बार,
लेकिन कभी न आया उनमें गाय सा निखार,
क्यों पथ में बार-बार बिछाते वो शूल हैं।
गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

हम जोर-जुल्म के कभी आगे न झुकेंगे,
जल-जलों तूफान से डर कर न रुकेंगे,
खारों को हमने मान लिया सिर्फ फूल है।
गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

21 टिप्‍पणियां:

  1. साबुन से धोया हमने गधों को हजार बार,
    लेकिन कभी न आया उनमें गाय सा निखार,
    क्यों पथ में बार-बार बिछाते वो शूल हैं।
    गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

    सुंदर रचना..बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  2. हमने तो पड़ोसी को अभय-दान दिया है,
    दुश्मन को दोस्त जैसा सदा मान दिया है,
    बस हमसे बार-बार हुई ये ही भूल है।

    सुंदर !!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ख़ूब! गाय का बछड़ा तो बड़ा प्यारा है!
    --->
    गुलाबी कोंपलें · चाँद, बादल और शाम

    जवाब देंहटाएं
  4. "हमने तो पड़ोसी को अभय-दान दिया है,
    दुश्मन को दोस्त जैसा सदा मान दिया है,
    बस हमसे बार-बार हुई ये ही भूल है।"


    सुंदर रचना..बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही उम्दा विचार
    बहुत ही उम्दा काव्य.........
    वाह !

    जवाब देंहटाएं
  6. साबुन से धोया हमने गधों को हजार बार,
    लेकिन कभी न आया उनमें गाय सा निखार,
    क्यों पथ में बार-बार बिछाते वो शूल हैं।
    गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

    khoobsoorat rachna.

    जवाब देंहटाएं
  7. HAB JAHAR KABULENGE TO MATLA YAHI H KI
    HUMZOR-JULAM BHI KABULENGE.

    HUMKO NAHI PYAR KI ZAHAR KABUL,
    JISKO LAGI H BHOOKH WO CHAKHE JARUR.
    BHARAT AAJ JO HAAL H WO YAHI RAHA USUUL,
    AAGE AB AUR NAHI HUM SAHENGE YEH ZAHRILI BANDUK.

    जवाब देंहटाएं
  8. भावनाओ को आपने इस रचना मे उढेल दिया है आपने ........जिसमे हम भी डुब गये!

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत ही सुंदर रचना. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  10. गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।
    प्यार से मिलने वाला तो मिले ---
    बहुत खूब

    जवाब देंहटाएं
  11. अच्छी रचना है, बहुत सारे सच एक साथ कहती है।

    जवाब देंहटाएं
  12. wah.

    साबुन से धोया हमने गधों को हजार बार,
    लेकिन कभी न आया उनमें गाय सा निखार,
    क्यों पथ में बार-बार बिछाते वो शूल हैं।
    गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

    uttam rachna ke liye badhai

    जवाब देंहटाएं
  13. आपकी हर एक रचनाएँ भावनाओं से भरी होती है खासकर इस रचना में तो आपने हर एक शब्द को भावनाओं से पिरोया है! बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं
  14. हमने तो पड़ोसी को अभय-दान दिया है,
    दुश्मन को दोस्त जैसा सदा मान दिया है,
    बस हमसे बार-बार हुई ये ही भूल है।
    गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

    bahut hi sundar bhav .badhai!!

    जवाब देंहटाएं
  15. वाह !! क्या खूब कही ....

    हमने तो पड़ोसी को अभय-दान दिया है,
    दुश्मन को दोस्त जैसा सदा मान दिया है,
    बस हमसे बार-बार हुई ये ही भूल है।
    गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।

    जवाब देंहटाएं
  16. हमने तो पड़ोसी को अभय-दान दिया है,
    दुश्मन को दोस्त जैसा सदा मान दिया है

    DUSHMAN KO AB CHETNA CHAAHIYE ... HAMAARE SABR KA IMTEHAAN NAHI LENA CHAAHIYE ....... OZ POORN RACHNA HAI ......

    जवाब देंहटाएं
  17. साबुन से धोया हमने गधों को हजार बार,
    लेकिन कभी न आया उनमें गाय सा निखार,
    क्यों पथ में बार-बार बिछाते वो शूल हैं।
    गर प्यार से मिले तो जहर भी कुबूल है।।
    is sundar rachna ke liye aapkee taarif ke liye shabd nahin.
    --KYA AAP ZINDA HAIN?

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails