"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

गुरुवार, 19 दिसंबर 2013

"कुहरा करता है मनमानी" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

कुहरा करता है मनमानी।
जाड़े पर छा गयी जवानी।

नभ में धुआँ-धुआँ सा छाया,
शीतलता ने असर दिखाया,
काँप रही है थर-थर काया,
हीटर-गीजर शुरू हो गये,
नहीं सुहाता ठण्डा पानी।
जाड़े पर छा गयी जवानी।। 

बालक विद्यालय को जाते,
कभी न मौसम से घबराते,
 पढ़कर ही काबिल बन पाते,
करो साधना सच्चे मन से,
कहलाओगे ज्ञानी-ध्यानी।
जाड़े पर छा गयी जवानी। 

कहता पापी पेट हमारा,
बिना कमाए नही गुजारा,
काम बिना नहीं कोई चारा,
श्रम करने से जी न चुराओ,
ऋतुएँ तो हैं आनी जानी।
जाड़े पर छा गयी जवानी।।

चूल्हे और अलाव जलाओ,
गर्म-गर्म भोजन को खाओ,
काम समय पर सब निबटाओ,
खाना, सोना और कमाना,
जीवन की है यही कहानी।
जाड़े पर छा गयी जवानी।।

11 टिप्‍पणियां:

  1. सचमुच कोहरे की मनमानी,कोहरा बहुत घमंडी है |
    नहीं गरम जोशी है इस में, और भावना ठंडी है ||

    जवाब देंहटाएं
  2. बढ़िया है आदरणीय-
    आभार आपका-

    जवाब देंहटाएं


  3. सुंदर रचना
    भावपूर्ण और प्रभावशाली
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    सादर

    ज्योति

    जवाब देंहटाएं
  4. Maine Jab Se Tumko Dekha Hai Aisa Lagta Hai Bus Dhuna Hi Dhuha Hai. Thank You For Sharing. Pyar Ki Kahani

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails