"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शनिवार, 15 जनवरी 2022

गीत "धूप गुनगुनी पाने को, सबका मन है ललचाया" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

 
सन-सन शीतल चला पवन,
सरदी ने रंग जमाया।
ओढ़ चदरिया कुहरे की,
सूरज नभ में शरमाया।।

जलते कहीं अलावसेंकता बदन कहीं है कालू,
कोई भूनता शकरकन्द कोकोई भूनता आलू,
दादा जी ने अपने तन पर,
कम्बल है लिपटाया।
ओढ़ चदरिया कुहरे की,
सूरज नभ में शरमाया।।

जितने वस्त्र लपेटोउतना ही ठण्डा लगता है,
चन्दा की क्या कहेंसूर्य भी शीत उगलता है,
धूप गुनगुनी पाने को,
सबका मन है ललचाया।
ओढ़ चदरिया कुहरे की,
सूरज नभ में शरमाया।।

काजू और बादाम, स्वप्न जैसे लगते निर्धन को,
मूँगफली खाकर देते हैं, सभी दिलासा मन को,
गजक-रेवड़ी के दर्शन कर,
दिल को समझाया।
ओढ़ चदरिया कुहरे की,
सूरज नभ में शरमाया।।

9 टिप्‍पणियां:

  1. शानदार दोहों की माला....जलते कहीं अलाव, सेंकता बदन कहीं है कालू,
    कोई भूनता शकरकन्द को, कोई भूनता आलू,
    दादा जी ने अपने तन पर,
    कम्बल है लिपटाया।
    ओढ़ चदरिया कुहरे की,
    सूरज नभ में शरमाया।।...वाह शास्‍त्री जी

    जवाब देंहटाएं
  2. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल रविवार (16-1-22) को पुस्तकों का अवसाद " (चर्चा अंक-4311)पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है..आप की उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी .
    --
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  3. शुभकामनाओं के संग वन्दन
    सुन्दर रचना

    जवाब देंहटाएं
  4. जितने वस्त्र लपेटो, उतना ही ठण्डा लगता है,
    चन्दा की क्या कहें, सूर्य भी शीत उगलता है,
    बहुत सुन्दर सृजन ।

    जवाब देंहटाएं
  5. ओढ़ चदरिया कुहरे की,
    सूरज नभ में शरमाया।।
    सटीक वर्णन, सामायिक मौसम पर शानदार दोहे।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  6. आदरणीय शास्त्री सर, आपकी कविता में विम्बों के जो दर्शन होते हैं, उससे हम सबों को बहुत कुछ सीखने को मिलता है।
    गजक-रेवड़ी के दर्शन कर,
    दिल को समझाया।
    आपने मकर संक्रांति पर्व को भी कविता में समहिय कर लिया है। साधुवाद!--ब्रजेंद्रनाथ

    जवाब देंहटाएं
  7. जितने वस्त्र लपेटो, उतना ही ठण्डा लगता है,
    चन्दा की क्या कहें, सूर्य भी शीत उगलता है,
    ठंड के मौषम की सुंदर अभिव्यक्ति आदरणीय । बहुत बधाइयाँ ।

    जवाब देंहटाएं
  8. जितने वस्त्र लपेटो, उतना ही ठण्डा लगता है,
    चन्दा की क्या कहें, सूर्य भी शीत उगलता है,
    बहुत सुंदर रचना

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails