"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 30 अप्रैल 2009

एक निवेदन

ब्लॉगर मित्रों!

बहुत दिनों से मैं एक नया ब्लाग बनाने का विचार बना रहा था। परन्तु आलस कर जाता था। फिर ऐसा संयोग बना कि मेरे कुछ शुभचिन्तकों ने अपनी टिप्पणियों से मुझे प्रेरणा दी कि इस काम को जल्दी अंजाम दे दो। अतः उन्हीं की कृपा से एक नया ब्लॉग शब्दों का दंगल बना पाया हूँ।

आशा है कि उच्चारण की भाँति इसे भी अपना प्यार देंगे।

यह शब्दों का दंगल है। इसे आप लड़ाई का अखाड़ा न समझें। यदि विद्वानों में बहस हो भी जाती हैं तो मेरा तो मानना हैं कि-

‘‘ज्ञानी से ज्ञानी लड़े, तो ज्ञान सवाया होय।

मूरख से मूरख लडे, तो तुरत लड़ाई होय।।’’

आप सब अपने-अपने क्षेत्र के महारथी हैं, विद्वान हैं। मैं दंगल का मास्टर नही हूँ, सिर्फ इसका एक अदना सा सेवक हूँ। मैं इस लड़ाई में कभी आपसे जीत नही पाऊँगा। क्योंकि सेवक कभी जीतता नही है।

चलते-चलते इतना अवश्य निवेदन करना चाहता हूँ कि यदि शब्दों की लड़ाई से आपके ज्ञान में बढ़ोतरी होती है तो आप पीछे कदापि न हटें। लेकिन यदि ये मतभेद मनभेद बन जायें। इसलिए अपनी भावनाओं नियन्त्रण अवश्य कर लें। स्वस्थ लेखन करें । शिष्ट शब्दों का प्रयोग करें।

मैं अपने दोनों ब्लॉगो का प्रयोग काव्य और गद्य को अलग-अलग लिखने में करना चाहता हूँ। शब्दों का दंगल भविष्य में भाई अजित वडनेकर जी के ‘शब्दों के सफर’ का अनुगामी बन कर कुछ साहित्य सेवा करना चाहता है।आपके शुभाशीष का अभिलाषी हूँ।

अन्त में श्रीमती वन्दना गुप्ता जी का (जो मेरी प्रत्येक पोस्ट को बड़े उत्साह व प्यार के साथ टिपियाती हैं) आभार व्यक्त करना चाहता हूँ।

छोटी बहिन जैसी रचना सिंह जी के साथ हुए तल्ख वार्तालाप के लिए खेद प्रकट करता हूँ। आशा है कि वो मुझे बड़ा भाई समझ कर क्षमा कर देंगी।

राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त छोटे भाई समान रावेंद्रकुमार रवि जी से विनय पूर्वक आग्रह-अनुग्रह करता हूँ कि मनरूपी सागर में आये ज्वार को भाटा में परिवर्तित करने की कृपा करें।

भाई समीर लाल जी, ताऊ रामपुरिया, कम्प्यूटरविद् आशीष् खण्डेलवाल, अजित वडनेकर, अविनाश वाचस्पति जैसे वरिष्ठ ब्लागर्स को नमन करता हूँ।

अन्तर्-जाल पर ब्लॉगिंग में आज मुझे 100 दिन ही तो हुए हैं।

इस अवधि में केवल 195 पोस्ट ही उच्चारण को दे पाया हूँ।

मैं तो सभी ब्लौगिंग के महारथियों में अभी बहुत कनिष्ठ हूँ।

विनयावनत- आपका सद्भावी।

23 टिप्‍पणियां:

  1. शब्दों का दंगल का हार्दिक स्वागत है एवं अनेक शुभकामनाऐं.

    जवाब देंहटाएं
  2. आपके शब्दों का दंगल हिन्दी जगत का मंगल करे, यही कामन है..

    जवाब देंहटाएं
  3. शब्दों का दंगल का हार्दिक स्वागत है। शुभकामनाएँ।
    घुघूती बासूती

    जवाब देंहटाएं
  4. शब्दों का दंगल का हार्दिक स्वागत है एवं अनेक शुभकामनाऐं.

    जवाब देंहटाएं
  5. स्वागत में अब क्या कहूँ,
    कर तो दिया कमाल!

    सौ दिन पूरे हो गए,
    पूरे हों सौ साल!

    ऐसे ही चर्चित रहें,
    करते रहें धमाल!

    भटके जो भी राह से,
    उसको रखें सँभाल!

    क्रमश: ... ... .

    जवाब देंहटाएं
  6. शब्‍दों का दंगल का बहुत बहुत स्‍वागत है .. अंतर्जाल में 100 दिन पूरे करने के लिए बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  7. ज्ञानी से मूरख लड़े या
    लड़े मूरख से ज्ञानी
    फिर का होय
    ये न हम जानी
    न तुम जानी।

    शब्‍दों का दंगल में
    चाहिए टिप्‍पणियों का मंगल
    उसे ही मानते हैं प्‍यार
    ब्‍लॉग की दुनिया में बेशुमार

    बनाएं जंगल
    गल का
    जिसमें पा गल हो
    गा गल हो
    जो भी हो
    अच्‍छी चंगी पूरी
    पूरी गल हो।

    जवाब देंहटाएं
  8. आपके नए ब्लॉग का हार्दिक स्वागत है

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत बधाई डाक्टसाब,
    ये सौ दिन हमने भी उच्चारण-सम्मोहन से भरपूर पाए। ...अब शब्दों के दंगल में भी कुछ अनुभव होंगे। हमें साथ रखने का शुक्रिया...

    ब्लागर सिर्फ ब्लागर होता है। वरिष्ठ, कनिष्ठ कुछ नहीं। ऐसा कुछ न सोचें। अनुरोध है कि तीसरा ब्लाग भी न बनाएं:)

    जवाब देंहटाएं
  10. Adarniya sir,AAp ke aashish paakar bahut accha laga.Very nice and poetic comment from you.Your association with blog jagat is an asset for all of us because aapka hona ek visheshagya ka hona hai hamare saath jisse hum nirantar gyan aur margdarshan dono prapt kar sakte hain.Pl keep guiding us.
    With regards
    Dr.Bhoopendra

    जवाब देंहटाएं
  11. इस दंगल में भी मंगल हो
    यही कामना है हमारी
    इंतज़ार है अब तो जल्दी जल्दी
    पोस्ट हों आपकी एक हजारी

    जवाब देंहटाएं
  12. पहले तो आपके १०० दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं..फ़िर दंगल की शुरुआत की बधाई..बस अनवरत लिखते रहे..यही कामना है.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  13. आप यूँ ही लिखते हैं बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  14. 100 din poore hone par hardik badhayi sweekarein.
    aap jo bhi karenge sab achcha hi karenge , isliye aap to bas likhte rahiye aur hum padhte rahein agle 100 salon tak,yahi ichcha hai.

    जवाब देंहटाएं
  15. शब्दों का दंगल के लिए आपको हार्दिक शुभकामनाऎं......

    जवाब देंहटाएं
  16. बढ़िया है जी नया ब्लॉग बना दिया. अब मेरी अकल में किसी भी तरह की कवितायें तो घुसती नहीं, आपके गद्य को तो पढ़ ही लिया करेंगे.

    जवाब देंहटाएं
  17. bahut bahut shubhkamanye main aap ke blog par de hi chuki hun.
    ek baar punh badhaayee..mangal hi mangal rahey is dangal mein..shubh kamana hai.

    जवाब देंहटाएं
  18. शब्दों का यह दंगल ऐसा होना चाहिए,
    जिससे कोई अमंगल न हो!
    मंगल ही मंगल हो!
    इस अखाड़े में उतरनेवाले
    हर व्यक्ति से मेरा अनुरोध है कि
    वह सोच-समझकर
    और
    आत्ममंथन करने के बाद
    शब्दों के हथियार बनाए।
    शब्दों का प्रयोग ऐसा हो कि
    साँप भी मर जाए और लाठी भी न टूटे।
    ऐसा न हो कि
    किसी ने कह दिया कि
    कौआ तुम्हारा कान ले गया
    और
    अपना कान देखे बिना
    कौए के पीछे दौड़ पड़े।

    क्रमशः ... .. .

    जवाब देंहटाएं
  19. सम्मानित टिप्पणीकारों!

    "शब्दों का दंगल" का स्वागत करने के लिए
    मैं आप सभी विद्वान साथियों का
    आभार व्यक्त करता हूँ।

    जवाब देंहटाएं
  20. वंदना जी ने अपना असली परिचय दे दिया है!
    अत: अब कुछ कहने का प्रश्न ही नहीं उठता!
    वैसे भी आदरणीय बड़े भाई डॉ. रूपचंद्र शास्त्री "मयंक" का अनुरोध अस्वीकार नहीं किया सकता!
    शुभकामना है कि उनका यह निवेदन सबको सही राह दिखाए!

    जवाब देंहटाएं
  21. धन्यवाद रावेंद्रकुमार रवि जी!
    जन्म-दिन पर आपको ढेरों शुभकामनाएँ।
    आप लिखते रहें और अपनी सुरभि ब्लॉग-जगत पर फैलाते रहें।

    जवाब देंहटाएं
  22. [url=http://btdcasino.cc]casino games[/url] contentment in oneself unoccupied casino games and request beside law hunk here ! [url=http://www.FREE-POKIES-BONUS.COM]pokies 4 fun[/url]

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails