"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

मंगलवार, 7 अप्रैल 2009

"ये है मेरा हिन्दुस्तान।" (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


नेताओं का बदल गया है, धर्म और ईमान,


जितने बड़े करें घोटाले, उतने बनें महान,


सारा जग करता गुणगान,


ये है मेरा हिन्दुस्तान।




भूखी-नंगी जनता को, भाषण से ही भरमाता,


प्रश्न उठाने को संसद में, भारी नोट कमाता,


कोठी, बंगला, कार विदेशी,


पाल रहा ये श्वान,


सारा जग करता गुणगान,


ये है मेरा हिन्दुस्तान।




अमर शहीदों के ताबूतों में, खाता रिश्वतखोरी,


चारे के बदले में भरता जाता, बड़ी तिजोरी,


ये है दल-बदलू इन्सान,


सारा जग करता गुणगान,


ये है मेरा हिन्दुस्तान।




गांधी, गौतम अगल-बगल रख,दारू खूब उड़ाता,


आदर्शों की बलिवेदी पर, रिश्वत सुमन चढ़ाता,


बन बैठा पूरा शैतान,


सारा जग करता गुणगान,


ये है मेरा हिन्दुस्तान।




तन भी काला, मन भी काला, काली सब करतूतें,


बिना गिने मारो, ऐसे नेताओं को चप्पल-जूते,


करना मत इनका सम्मान,


मत करना इनका गुणगान,


ये है मेरा हिन्दुस्तान।


10 टिप्‍पणियां:

  1. तन भी काला, मन भी काला, काली सब करतूतें,
    बिना गिने मारो, ऐसे नेताओं को चप्पल-जूते,
    करना मत इनका सम्मान,
    मत करना इनका गुणगान,
    ये है मेरा हिन्दुस्तान।

    sun sun kar tumhari kavita.
    ro-ro karati rahti sarita,
    kahti hai upar to dekho,
    paida karke in logo ko,
    aaj pachhta ta hai bhagvan.

    जवाब देंहटाएं
  2. aapne netaon ko chappal jute marne ko kaha hai aur aaj hi tv par dekh liya hai......kya baat hai aapki baat ki to badi door tak sunwayi ho rahi hai.

    जवाब देंहटाएं
  3. और कोई उपाय भी तो नही दिखाई देता शाश्त्री जी.

    रामराम

    जवाब देंहटाएं
  4. अमर शहीदों के ताबूतों में, खाता रिश्वतखोरी,
    चारे के बदले में भरता जाता, बड़ी तिजोरी,

    बिलकुल सही तस्वीर दिखाई आपने.

    जवाब देंहटाएं
  5. शास्त्री जी।
    यह कविता दास्तान या व्यंग नही हे,
    हकीकत बयान करती है।

    जवाब देंहटाएं
  6. हिन्दोस्तान के हालात का
    अच्छा चित्र खीचा है।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  7. KAVITA KA EK-EK SHABD SAHI HAI.
    AAP GADYA AUR PADYA DONO ACHHA LIKHTEN HAIN. SIR JI.......

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails