"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

गुरुवार, 23 अप्रैल 2009

"वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।

महक उठे सूने गलियारे, इक अरसे के बाद।।

भटके होंगे कहाँ-कहाँ, जाने कैसी मजबूरी थी,

मैंने खोजा यहाँ-वहाँ, लेकिन किस्मत में दूरी थी,

दहक उठे सोये अंगारे, इक अरसे के बाद।

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।।

जाड़ा बीता, गरमी बीती, रिम-झिम सावन बरस गये,

जल बिन मछली से वो तड़पे, नैन मेरे भी तरस गये,

दूर हुए हैं अब अंधियारे, इक अरसे के बाद।

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।।

उनके आने से उपवन में, फिर हरियाली छायी है,

पतझड़ की मारी बगिया में, पवन बसन्ती आयी है,

चहक उठे आँगन चौबारे, इक अरसे के बाद।

वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।।

10 टिप्‍पणियां:

  1. खुश किस्मत हैं आप बधाई
    देर से सही पर चमके तो
    अंधकार में यह गलियारे
    चाहे इक अरसे के बाद

    जवाब देंहटाएं
  2. वो आये मन की dwaare इक arse के बाद................
    salil प्रवाह की तरह ही आपकी रचना बहती हुयी lagti है ............किसी मधुर गीत की तरह मन को vibhor करती हुयी

    जवाब देंहटाएं
  3. वो आये हैं मन के द्वारे, इक अरसे के बाद।

    वाह शाश्त्री जी, बहुत खूबसूरत गीत.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  4. aapki to har rachna khoobsoorat hoti hai...........bahut hi badhiya.

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर रचना है .. जवाब नहीं आपका .. बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत दिनों के बाद
    तुम्हारी याद चली आई!
    मन की बगिया में
    बेला की ख़ुशबू भर लाई!

    जवाब देंहटाएं
  7. चहक उठे आँगन चौबारे,
    इक अरसे के बाद।
    वो आये हैं मन के द्वारे,
    इक अरसे के बाद।।

    मनोहारी रचना.. आभार

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails