"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

सोमवार, 11 मई 2009

‘‘राह खुशियों की आसान हो जायेगी’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

गम के दरिया से बाहर निकालो कदम,

राह खुशियों की आसान हो जायेगी।

रोने-धोने से होंगे न आँसू खतम,

उलझनें भारी पाषाण हो जायेगी।।


साँस को मत कुरेदो बहक जायेगी,

आग को मत कुरेदो चहक जायेगी,

भूल जाना जफा, याद करना वफा,

जिन्दगी एक वरदान हो जायेगी।

रोने-धोने से होंगे न आँसू खतम,

उलझनें भारी पाषाण हो जायेगी।।


फूल काँटों मे रहकर भी रोता नही,

दर्द सहता है, मुस्कान खोता नही,

बाँट लो प्यार और काट लो जिन्दगी,

सुख की घड़ियाँ मेहरबान हो जायेगी।

रोने-धोने से होंगे, न आँसू खतम,

उलझनें भारी पाषाण हो जायेगी।।


जिसने अमृत चखा, वो फकत देव है,

पी लिया जिसने विष, वो महादेव है,

दो कदम तुम चलो, दो कदम हम चलें,

एक दिन जान-पहचान हो जायेगी।

रोने-धोने से होंगे, न आँसू खतम,

उलझनें भारी पाषाण हो जायेगी।।

11 टिप्‍पणियां:

  1. सकारात्मक संवेदनाओं वाला गीत हमें भाया।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर भावमात्मक रचना.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  3. बस कदम कदम मिलाते पहचान हो जायेगी..मिलाये रहिये. बहुत उम्दा!!

    जवाब देंहटाएं
  4. जिसने अमृत चखा, वो फकत देव है,

    पी लिया जिसने विष, वो महादेव है,

    दो कदम तुम चलो, दो कदम हम चलें,

    एक दिन जान-पहचान हो जायेगी।

    रोने-धोने से होंगे, न आँसू खतम,

    उलझनें भारी पाषाण हो जायेगी।।


    bahut khoob , do kadam tum chalo....................wah. badhai sweekaren.

    जवाब देंहटाएं
  5. प्रणाम शास्त्री जी, बहुत बढ़या रचना है

    जवाब देंहटाएं
  6. kuchh had tak ye bate kaam kar jayengi ,zindagi ke saath jo chal payengi .mumkin hai rah khushiyon ki aasan ho jayengi .

    जवाब देंहटाएं
  7. रोने धोने से न होंगे आंसू खतम
    उलझने पाषाण हो जायेंगी...

    वाह.......क्या बात है.

    जवाब देंहटाएं
  8. जिसने अमृत चखा, वो फकत देव है,
    पी लिया जिसने विष, वो महादेव है

    सुन्दर रचना है शास्त्री जी...........
    आपके शब्द बुलते हुवे लगते हैं

    जवाब देंहटाएं
  9. क्या बात है शास्त्री जी!!!
    हिम्मत और जोश बढाती एक बेहतरीन कविता

    जवाब देंहटाएं
  10. इस गीत की शुरूआत
    बहुत अच्छी है
    और
    सबसे प्रभावशाली पंक्तियाँ हैं ये -

    जिसने अमृत चखा,
    वो फकत देव है!
    पी लिया जिसने विष,
    वो महादेव है!

    जवाब देंहटाएं
  11. bahut hi sundar geet likha hai..........prernadayi.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails