"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 23 मई 2009

‘‘पतंग का खेल’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

लाल और काले रंग वाली,

मेरी पतंग बड़ी मतवाली।


मैं जब विद्यालय से आता,


खाना खा झट छत पर जाता।

पतंग उड़ाना मुझको भाता,

बड़े चाव से पेंच लड़ाता।


पापा-मम्मी मुझे रोकते,


बात-बात पर मुझे टोकते।


लेकिन मैं था नही मानता,


इसका नही परिणाम जानता।


वही हुआ था, जिसका डर था,


अब मैं काँप रहा थर-थर था।


लेकिन मैं था ऐसा हीरो,


सब विषयों लाया जीरो।


अब नही खेलूँगा यह खेल,


कभी नही हूँगा मैं फेल।


आसमान में उड़ने वाली,


जो करती थी सैर निराली।


मैंने उसे फाड़ डाला है,


छत पर लगा दिया ताला है।

मित्रों! मेरी बात मान लो,


अपने मन में आज ठान लो।

पुस्तक लेकर ज्ञान बढ़ाओ।

थोड़ा-थोड़ा पतंग उड़ाओ।।


(चित्र गूगल खोज से साभार)

10 टिप्‍पणियां:

  1. मैंने भी ख़ूब उड़ायी है पतंग लेकिन फ़ेल कभी नहीं हुआ और न होने वाला हूँ... बढ़िया रचना है

    ---
    तख़लीक़-ए-नज़र

    जवाब देंहटाएं
  2. खुद भी बचपन में गये, साथ में मुझे भी ले गए।
    बातों बातों में बच्चे को, गम्भीर सीख दे गए।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
  3. bacchon ko seekh deti kavita hai magar mujhe lagta hai ki ye nirala khel bachon se chheenane ki bajaye unhen ise savdhani aur kabhi kabhi khelane ki seekh deni chahiye patang ki udan bachon me akash chhune ki bhavna bhar deti hai magar kavita bahut sunder hai ye bachon ko padhne ke liye prerit karti hai abhar

    जवाब देंहटाएं
  4. पतंग तो इस भारत यात्रा में भी तनाई..पास ही लौटे. :)

    जवाब देंहटाएं
  5. मैंने भी ख़ूब उड़ायी है पतंग
    बहुत ही सुन्दर कविता जी, आभार

    जवाब देंहटाएं
  6. हिंदी फिल्मो की तरह अंत बहुत अच्छा रहा कविता का...पतंग उडाओ पर साथ में पास भी होके दिखाओ...

    जवाब देंहटाएं
  7. शास्त्री जी ,
    अच्छी कविता है ! मैं समझता हूँ कि पतंग से आपका गूढ़ तात्पर्य शायद कोरी ऊँची उडान भरने और ख्याली पुलाव पकाने से है !

    जवाब देंहटाएं
  8. बचपन की याद दिला देते हैं आप तो इन रचनाओं मे.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  9. patang udana to bharat ki parampara mein raha hai...........shayad har bachcha udata hai ek na ek baar ya koshish karta hai.......nirmala ji ne sahi kaha........main bhi unse sahmat hun.
    han aapne bachchon ke liye jo likha hai wo bahut hi sundar hai.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails