"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 10 मई 2009

‘‘बाल-गीत’’ (डा0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

हाथी दादा सूंड उठा कर,


चले देखने मेला।

बन्दर मामा साथ हो लिया,

बन करके उनका चेला।




चाट पकौड़ी खूब उड़ाई,

देख चाट का ठेला।


बड़े मजे से फिर दोनों ने,

जम करके खाया केला।

अब दोनों आपस में बोले,

अच्छा लगा बहुत मेला।



17 टिप्‍पणियां:

  1. यह बालगीत अति सुंदर है,
    अति सुंदर ढंग लगाने का!
    आँखों से मन में उतर गया,
    मन करता इसे सजाने का!


    बच्चों के लिए मनोहारी,
    उल्लास बढ़ानेवाला है!
    लिखनेवाले का चमत्कार,
    सबको हर्षानेवाला है!

    जवाब देंहटाएं
  2. chitron se susajjit baal geet pyara hai, mun men paani aa ra hai.

    जवाब देंहटाएं
  3. अजेंद्र (रा.उ.मा.वि.चारुबेटा, उत्तराखंड, भारत)10 मई 2009 को 8:38 am

    मैंने तो आज तक असली हाथी ही नहीं देखा था, इसमें देखा तो लगा कि निकलकर बाहर आ जाएगा और मुझे केला खिलाएगा!

    जवाब देंहटाएं
  4. आपने तो सुबह सुबह मुंह मे पानी ला दिया जी. बहुत बढिया.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  5. आकाश (रा.उ.मा.वि.चारुबेटा, उत्तराखंड, भारत)10 मई 2009 को 8:45 am

    मेरा मन हो रहा है कि मैं तुरंत कंप्यूटर के अंदर घुस जाऊँ और हाथी दादा व बंदर मामा के साथ मेले के मज़े लेने लगूँ!

    जवाब देंहटाएं
  6. सुनील (रा.उ.मा.वि.चारुबेटा, उत्तराखंड, भारत)10 मई 2009 को 8:51 am

    मेरा मन हो रहा है कि मैं बंदर मामा को अपने कंधे पर बैठाकर, फिर हाथी दादा की पीठ पर बैठकर मेला देखने जाऊँ और चाट-पकौड़ी-केला खाके मस्त हो जाऊँ!

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह ! बहुत प्यारा गीत.

    जवाब देंहटाएं
  8. ...कविता खूब निखरी
    केला भी ताज़ा,चाट भी साफ सुथरी

    जवाब देंहटाएं
  9. बड़े भाई ,
    आपने बहुत बेहतरीन बाल गीत लिखा और प्रस्तुति का तो कोई जबाव नहीं .एक दम लाजबाव .मेरे लिए एक प्रेरणा का काम काम करेगा
    बहुत बहुत बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  10. मैंने इस सुन्दर से गीत के लिए एक चित्र बनाया है
    आशा करता हूँ की आपको वह पसंद आयेगा
    अगर चाहें तो ज़रूर उसे अपने ब्लॉग पर लगावें
    धन्यवाद
    फाइल मै आपको ईमेल कर दूंगा

    जवाब देंहटाएं
  11. लाजवाब.......उत्तम.........
    ऐसे निश्छल कविताएं कभी कबी मन को अनजाने ही मोहित कर लेती हैं.........धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  12. बालगीत का प्रस्तुतिकरण अत्यंत सुन्दर है.

    जवाब देंहटाएं
  13. maatritav divas ki aapko bahut bahut badhaaee .balgeet ke liye shubhkaamnaayen .

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails