"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शुक्रवार, 4 सितंबर 2009

‘‘अकेले नही इस जमाने में हम हैं’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

आज फिर किसी ब्लागर मित्र को टिपियाते हुए

फिर से ये गज़ल बन गई है-



जुदाई के गम में हुई चश्म नम हैं,

मगर दिल-जिगर में बहुत जोर-दम हैं।



भरोसा हमें अपने जज़्बात पर है,

मगर उनको एतबार खुद पे ही कम हैं।



अन्धेरों-उजालों भरी जिन्दगी में,

कदम दर कदम पर भरे पेंच-औ-खम हैं।



हमें दर्द पीने की आदत है जानम,

अकेले नही इस जमाने में हम हैं।


19 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया रचना बनी जी...........
    अभिनन्दन !

    जवाब देंहटाएं
  2. हमें दर्द पीने की आदत है जानम,
    bahut khoob
    dard ko peene waala hee dard ko kam kar sakata hai

    जवाब देंहटाएं
  3. भरोसा हमें अपने जज़्बात पर है,

    मगर उनको एतबार खुद पे ही कम हैं।


    jee ekdum sahi kaha hai aapne...... hamein apne emotions pe bharosa to hota hai..... magar logon ko khud pe hi yaqeen nahi hota hai.....

    bahut hi achchi kavita.....

    जवाब देंहटाएं
  4. जहाँ चाह है वही राह है.
    सुंदर भाव..बधाई!!!

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी लगी आपकी ये ख़ूबसूरत रचना! एक एक पंक्तियाँ सच्चाई बयान करती है! बहुत खूब!

    जवाब देंहटाएं
  6. हमेशा की तरह से फ़िर से एक बहुत सुंदर रचना पढने को मिली.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  7. भरोसा हमें अपने जज़्बात पर है,

    मगर उनको एतबार खुद पे ही कम हैं।
    क्या शेर है. बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  8. अन्धेरों-उजालों भरी जिन्दगी में, कदम दर कदम पर भरे पेंच-औ-खम हैं।

    kya baat hai... bahut khub..!

    जवाब देंहटाएं
  9. hamen dard peene ki aadat hain janam ..aakale nahin is jamane men hum hain.....aati sunder rachana.

    जवाब देंहटाएं
  10. शास्त्रीजी,
    ये भरोसा क्या कम है कि सफ़र तनहा नहीं है ?
    'हमें दर्द पीने की आदत है जानम,
    अकेले नही इस जमाने में हम हैं।'
    यकीनन सुन्दर अशार, इज़हार इस यकीन का !
    बधाई ! आ.

    जवाब देंहटाएं
  11. हमें दर्द पीने की आदत है जानम,
    अकेले नही इस जमाने में हम हैं।

    वाह वाह बहुत खूब कहा है।

    जवाब देंहटाएं
  12. भरोसा हमें अपने जज़्बात पर है, मगर उनको एतबार खुद पे ही कम हैं।
    उम्दा शेर है ...बहुत शुभकामनायें ..!!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails