"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 6 सितंबर 2009

‘‘जहर वेदना के पिये जा रहे हैं’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


घुटन और सड़न में जिए जा रहे हैं,
जहर वेदना के पिये जा रहे हैं।

फकत नाम की है यहाँ राष्ट्र-भाषा,
चढ़ी है जुबाँ पर यहाँ आंग्ल-भाषा,
सभी काम इसमें किये जा रहे हैं।

चुनावों में हिन्दी ध्वजा गाड़ते हैं,
संसद में अंग्रेजियत झाड़ते हैं,
ये सन्ताप माँ को दिये जा रहे हैं।

जिह्वा कलम कर विदेशों में जाते,
ये हिन्दी को नीचा हमेशा दिखाते,
ये नौका भँवर में लिए जा रहे है।

भारत की है जान दिल और जिगर है
ये सन्तों की वाणी अमर है अजर है,
फटे आवरण को सिये जा रहे है।

16 टिप्‍पणियां:

  1. ye kaise desh ke karndhar hain jo
    angreji ko samman diye ja rahe hain
    bhasha ki mahtta ke namm par jo
    hindi ko apmanit kiye ja rahe hain


    bahut hi khoobsoorti se hindi ki vyatha ujagar ki hai.

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर, शास्त्री जी, शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामनावो सहित

    जवाब देंहटाएं
  3. भारत की है जान दिल और जिगर है
    ये सन्तों की वाणी अमर है अजर है,
    फटे आवरण को सिये जा रहे है।
    बहुत सुन्दर रचना है बधाई और सेहत के लिये शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  4. भारत की है जान दिल और जिगर है
    ये सन्तों की वाणी अमर है अजर है,
    बहुत सुन्दर
    हिन्दी के प्रति चिंता उचित है

    जवाब देंहटाएं
  5. rashtrabhasa ki durdasa ...dil ko kachotati marmsparshi rachana .......badhai badhai...

    जवाब देंहटाएं
  6. डॉक्टर साब,
    सुना है कि तबियत नासाज़ है ?
    अपना ख्याल रखें |
    बहुत सुन्दर रचना है बधाई और सेहत के लिये शुभकामनायें |

    जवाब देंहटाएं
  7. ज़रा यहाँ भी निगाह डाले :- "बुरा भला" ने जागरण की ख़बर में अपनी जगह बनाई है |
    http://in.jagran.yahoo.com/news/national/politics/5_2_5767315.html

    जवाब देंहटाएं
  8. शास्त्री जी,
    आपकी हिंदी-चिंता प्रभावित तो करती ही है, भारतवासियों को भी पुनर्विचार की प्रेरणा देती है !
    चुनावों में हिन्दी ध्वजा गाड़ते हैं,
    संसद में अंग्रेजियत झाड़ते हैं,
    ये सन्ताप माँ को दिये जा रहे हैं।...
    जाने इस संताप से कब मुक्ति मिलेगी उन्हें... सचमुच, माता की छाती पर 'मम्मी' स्वर है !
    आभार !! आ.

    जवाब देंहटाएं
  9. ज़रा यहाँ भी निगाह डाले :- "बुरा भला" ने जागरण की ख़बर में अपनी जगह बनाई है |

    http://in.jagran.yahoo.com/news/national/politics/5_2_5767315.html

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ही विचारणीय रचना जो हकीकत में सच का आभास भी कराती है . उम्दा रचना . आभार

    जवाब देंहटाएं
  11. एक अति सुंदर कविता जल्द से स्वास्थय हो जाए यही कामन्ये करता हुं

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत उम्दा रचना. शीघ्र स्वस्थ होईये डाकटर साहब.

    शुभाकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  13. चुनावों में हिन्दी ध्वजा गाड़ते हैं,
    संसद में अंग्रेजियत झाड़ते हैं,
    ये सन्ताप माँ को दिये जा रहे हैं।

    rachna mein bahut dam hai bhai. ek dam chhakka mara hai apne.badhai!

    जवाब देंहटाएं
  14. चुनावों में हिन्दी ध्वजा गाड़ते हैं,
    संसद में अंग्रेजियत झाड़ते हैं,
    ये सन्ताप माँ को दिये जा रहे हैं।

    rachna mein bahut dam hai bhai. ek dam chhakka mara hai apne.badhai!

    जवाब देंहटाएं
  15. अत्यन्त सुंदर और मर्मस्पर्शी रचना के लिए बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  16. राष्ट्रभाषा हिंदी के प्रति आपकी चिंता जायज है ..
    शीघ्र स्वास्थ्य लाभ करें ..शुभकामनायें ..!!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails