"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शनिवार, 5 सितंबर 2009

‘‘नफरत की मशालें जल नही सकती’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


हमारे मुल्क में गन्दी तिजारत फल नही सकती।

जो दहशतगर्द हैं उनकी यहाँ पर चल नही सकती।।

अहिंसा का चमन सींचा है बापू ने सखावत से,

यहाँ सौदागरों की दाल अब तो गल नही सकती।

वफादारी की धारा खून में बहती हमारे है,

जफाएँ मूँग सीनो पर हमारे दल नही सकती।

धर्म-निरपेक्ष भारत में सभी रहते मुहब्बत से,

फरेबी और फितरत इस वतन में पल नही सकती।

तिरंगा जान हैं अपनी, तिरंगा शान है अपनी,

हमारे दिल में नफरत की मशालें जल नही सकती।

16 टिप्‍पणियां:

  1. सही सुंदर भाव लिए एक राष्ट्रीय कविता।

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत खुब, देश प्रेम से लवरेज लाजवाब कविता। बधाई .......

    जवाब देंहटाएं
  3. देश प्रेम के भाव मे बहा दिया बहुत खूब्सूरत रचना है बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. देश भक्ति से लबरेज़ लाजवाब ग़ज़ल..हर शेर बेहतरीन...वाह
    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  5. "तिरंगा जान हैं अपनी, तिरंगा शान है अपनी,
    हमारे दिल में नफरत की मशालें जल नही सकती।"


    बहुत ही सुन्दर रचना |

    जवाब देंहटाएं
  6. सुन्दर भाव लिखे थे आपने, मगर अफ़सोस कि यहाँ हो एकदम उलटा रहा है !

    जवाब देंहटाएं
  7. हमारे मुल्क में गन्दी तिजारत फल नही सकती।

    जो दहशतगर्द हैं उनकी यहाँ पर चल नही सकती।।

    waaqai mein nahin chal sakti...... na hi hum chalne denge.....

    deshbhakti se paripoorna ek shresth rachna.....

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर लगी आप की यह कविता देश प्रेम मै ओत परोत.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  9. देशभक्ति पर आपने बेहद ख़ूबसूरत रचना लिखा है! बहुत अच्छा लगा!

    जवाब देंहटाएं
  10. तिरंगा जान हैं अपनी, तिरंगा शान है अपनी,
    हमारे दिल में नफरत की मशालें जल नही सकती।

    --नमन इन भावनाओं से ओत प्रोत इस रचना के लिए.

    जवाब देंहटाएं
  11. DESH BHAKTI SE PARIPOORNA KAVITA...SUBHKAMNAYEN.,.>< ....1971 KI AAPKI RACHANA..."KARVA BAHUT KARELA HOTA par kitne gun ka swami hain.....ko blog par dene ki kripa karen.

    जवाब देंहटाएं
  12. Hello I think you're wrong. I'm sure. I can prove it.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails