"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

शनिवार, 26 सितंबर 2009

‘‘खुद बचना और बचाना है’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



घर की वाटिकाओं में हमको, सब्जी-शाक उगाना है।
शोषण और कुपोषण से, खुद बचना और बचाना है।।

गैया-भैंसों का हमको लालन-पालन करना होगा,
अण्डे-मांस छोड़कर, हमको दूध-दही अपनाना है।
शोषण और कुपोषण से, खुद बचना और बचाना है।।

छाछ और लस्सी कलियुग में अमृततुल्य कहाते हैं,
पैप्सी, कोका-कोला को भारत से हमें भगाना है।
शोषण और कुपोषण से, खुद बचना और बचाना है।।

दाड़िम और अमरूद आदि फल जीवन देने वाले हैं,
आँगन और बगीचों में, फलवाले पेड़ लगाना है।
शोषण और कुपोषण से, खुद बचना और बचाना है।।

मानवता के हम संवाहक, ऋषियों के हम वंशज हैं,
दुनिया भर को फिर से, शाकाहारी हमें बनाना है।
शोषण और कुपोषण से, खुद बचना और बचाना है।।

18 टिप्‍पणियां:

  1. खुद बचाना और बचाना
    घरो में सब्जी साग लगाना है

    सर बहुत सार्थक और प्रेरक कविता जब आलू के रेट २५ रुपये किलो हो जाए ....

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत सही कहा है
    ------------

    बंदरों का क्या करें ?
    ना वाटिका बनाने दे रहे हैं और तो और अब तो कांटो वाले पेडों जैसे दाडिम को भी खा जा रहे है़

    जवाब देंहटाएं
  3. बढ़िया राय है, पर कोई अमल करे तब बात बने !
    आभार |

    जवाब देंहटाएं
  4. डा. रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”
    अभिवन्दन
    शाकाहार. कुपोषण, स्वदेशी और वनस्पति प्रेम से ओत- प्रोत रचना के लिए बधाई.
    - विजय

    जवाब देंहटाएं
  5. सुन्दर संदेश देती रचना । आभार ।

    जवाब देंहटाएं
  6. सत्य वचन शास्त्रीजी।आज बहुत ज़रूरी है आपकी बातों का मानना।

    जवाब देंहटाएं
  7. मानवता के हम संवाहक, ऋषियों के हम वंशज हैं,
    दुनिया भर को फिर से, शाकाहारी हमें बनाना है...

    प्रणाम शास्त्री जी .......... आपकी हर रचना में एक सुन्दर सन्देश छिपा होता है .......... इस बार भी कमल किया है आपने ,..... सच में शाकाहारी होने के कई फायदे हैं .........

    जवाब देंहटाएं
  8. शास्त्री जी बहुत उतम ओर सुंदर सन्देश दिया आप ने अपनी कविता मै.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  9. फल,सब्जियों और शाकाहार के आगे सभी आहार फेल है..एक संदेश देती हुई खूबसूरता रचना...धन्यवाद..

    जवाब देंहटाएं
  10. हरित और श्वेत दोनों ही क्रान्तियों को पोषित करती सुन्दर कविता.

    जवाब देंहटाएं
  11. छाछ और लस्सी कलियुग में अमृततुल्य कहाते हैं,
    पैप्सी, कोका-कोला को भारत से हमें भगाना है।
    शोषण और कुपोषण से, खुद बचना और बचाना है

    maine yeh sankalp bahut pehle hi le liya tha........ pepsi coke ko maine bahut pehle hi apne life mein ban kar rakha hai....

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत ही सुंदर संदेश देते हुए इस शानदार रचना के लिए बधाई!

    जवाब देंहटाएं
  13. शोषण और कुपोषण से, खुद बचना और बचाना है ..
    SAMAJOPYOGI RACHANA LIKHNE KE LIYE ....DHANYABAD..

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails