"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 27 सितंबर 2009

शहीद-ए-आज़म स. भगत सिंह (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


शहीद-ए-आज़म स0 भगत सिंह
को
उनके 103वें जन्म-दिवस पर
शत्-शत् नमन!!!

जन्म- 27 सितम्बर, 1907 ई0 तथा
बलिदान- 23 मार्च, 1931 ई0।


स0 भगत सिंह ने
मात्र 23 वर्ष, 5 माह, 25 दिन की
अल्पायु में हँसते हुए
फाँसी के फन्दे को चूम लिया था।
यदि साहित्यकार के दृष्टिकोण से देखा जाए तो
एक 23 वर्षीय नौजवान ने इतनी छोटी आयु में
भाषा और साहित्य का कितना गहन अध्ययन किया होगा।
स0 भगत सिंह आजकल के नौजवानों के लिए प्रेरणा के स्रोत हैं।
हमारी स्वतन्त्रता आज तक इसी लिए अक्षुण्ण है कि
इसके मूल में स0 भगत सिंह सरीखे
न जाने कितने ही
नाम-अनाम स्वनामधन्य शहीदों का बलिदान
प्रत्यक्ष और परोक्ष दोनों रूपों में निहित है।

13 टिप्‍पणियां:

  1. शहीद-ए-आज़म भगत सिंह को 103वें जन्मदिवस पर शत्-शत् नमन...

    जवाब देंहटाएं
  2. शहीद भगत सिंह
    और
    उनके सभी साथियों को
    मेरे शत्-शत् नमन!

    जवाब देंहटाएं
  3. शास्त्री जी, भगत सिंह जैसे राष्ट्रभक्तों का यह देश और इस देश के युवा सदैव ही ऋणी रहेंगे. शत शत नमन

    जवाब देंहटाएं
  4. शहीद् ए आजम भगत सिह को नमन

    जवाब देंहटाएं
  5. शहीद् ए आजम सरदार भगत सिंह जी को उनके १०३ वे जन्मदिवस पर सभी मैनपुरीवासीयों की ओर से शत शत नमन |

    जवाब देंहटाएं
  6. शहीद् ए आजम सरदार भगत सिंह जी को नमन.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  7. भगत सिंह जी को मेरा शत शत नमन जिन्होनें देश के लिए अपनी जान कुर्बान कर दिए!

    जवाब देंहटाएं
  8. इष्ट मित्रो व कुटुंब जनों सहित आपको दशहरे की घणी रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  9. इष्ट मित्रों एवम कुटुंब जनों सहित आपको दशहरे की घणी रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  10. shaheed - e- azam bhagat singh ke 103 ve janamdin par shat shat naman.........unke balidan ki badolat hi aaj hum surakshit baithe hain aur aazad hawa mein saans le rahe hain .........hum unke rin se kabhi bhi urin nhi ho sakte.

    जवाब देंहटाएं
  11. bhagat sigh ke jan din par aur विजयादशमी par हार्दिक शुभ कामनाएं !!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails