"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

बुधवार, 3 फ़रवरी 2021

चार फरवरी "जन्मदिन पर रूप मुझको भा गया है" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

--
सुखद वासन्ती पवन, अनुराग लेकर आ गया है।
जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
--
हो गयी है साँझ अब तो, दिवस का अवसान है,
वास्तविक दिन-वार को, तो जानते भगवान हैं,
जो दिया गुरुदेव ने, वो वार फिर से आ गया है।
जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
--
सिलसिला होगा शुरू, मिल जायेंगी ढेरों बधाई,
आज मेरे स्वजन-परिजन, खूब बाँटेंगे मिठाई,
वातावरण उल्लास उत्सव का सदन में छा गया है।
जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
--
हो गया मौसम सुहाना, आ रहा मधुमास है,
अन्त सरदी का हुआ है, फरवरी का मास है,
अवतरण का आज मित्रों, खास अवसर आ गया है।
जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
--
भाग्यशाली हूँ बहुत मैं, साथ जीवनसंगिनी है,
संयुक्त है परिवार सब, खुशहाल मेरी जिन्दगी है,
ईश के वन्दन-भजन का, पल सुहाना आ गया है।
जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
--
रोज कुछ लिखकर नया, अनुराग अपना बाँटता हूँ,
हाथ में लेकर कुदाली, कण्टकों को छाँटता हूँ,
शारदे की वन्दना का, गान मुझको आ गया है।
जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
--

18 टिप्‍पणियां:

  1. भाग्यशाली हूँ बहुत मैं, साथ जीवनसंगिनी है,
    संयुक्त है परिवार सब, खुशहाल मेरी जिन्दगी है,
    ईश के वन्दन-भजन का, पल सुहाना आ गया है।
    जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
    आदरणीय शास्त्री जी, आप हमेशा यू ही खुश रहे और आपका आशीर्वाद हम पर बना रहे यहीं आपके जन्मदिन पर शुभकामनाएं।

    जवाब देंहटाएं
  2. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल गुरुवार (०४-०२-२०२१) को 'जन्मदिन पर' (चर्चा अंक-३९६७) पर भी होगी।

    आप भी सादर आमंत्रित है।
    --
    अनीता सैनी

    जवाब देंहटाएं
  3. रोज कुछ लिखकर नया, अनुराग अपना बाँटता हूँ,
    हाथ में लेकर कुदाली, कण्टकों को छाँटता हूँ,
    शारदे की वन्दना का, गान मुझको आ गया है।
    जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।

    अनंत शुभकामनाएं
    वंदन
    अभिनंदन

    सादर,
    डॉ. वर्षा सिंह

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर।।
    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं।🌻

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही सुन्दर और भावप्रवण
    जन्मदिन की अनंत शुभकामनाएं आदरणीय 💐💐

    जवाब देंहटाएं
  6. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं, सुन्दर सृजन।

    जवाब देंहटाएं
  7. आदरणीय,
    जन्मदिन पर है शतक शुभकामनाएं
    आपको सादर नमन सादर दुआएं
    - डॉ शरद सिंह
    🌹🙏🌹

    जवाब देंहटाएं
  8. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं सर!

    जवाब देंहटाएं
  9. रोज कुछ लिखकर नया, अनुराग अपना बाँटता हूँ,
    हाथ में लेकर कुदाली, कण्टकों को छाँटता हूँ,
    शारदे की वन्दना का, गान मुझको आ गया है।
    जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।
    - बहुत ही सुंदर मनमोहक कविता..जन्मदिन के अवसर पर आपको हमारी तरफ से हार्दिक शुभकामनायें..आपको सादर करबद्ध अभिवादन..

    जवाब देंहटाएं
  10. असीम शुभकामनाओं और सादर प्रणाम के संग हार्दिक बधाई जन्मदिन की
    अद्धभुत रचना

    जवाब देंहटाएं
  11. जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं आदरणीय सर।
    कामना करती हूँ-
    सदैव स्वस्थ रहै,सपरिवार प्रसन्न रहें
    आपकी लेखनी का अनंत प्रवाह निरंतर निर्बाध चलता रहे।
    पुनः बधाई सर।
    प्रणाम।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं
  12. भाग्यशाली हूँ बहुत मैं, साथ जीवनसंगिनी है,
    संयुक्त है परिवार सब, खुशहाल मेरी जिन्दगी है,
    ईश के वन्दन-भजन का, पल सुहाना आ गया है।
    जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।

    बहुत सुंदर....जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं, आदरणीय....

    जवाब देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर.जन्मदिन की शुभकामनाएं.

    जवाब देंहटाएं
  14. भाग्यशाली हूँ बहुत मैं, साथ जीवनसंगिनी है,
    संयुक्त है परिवार सब, खुशहाल मेरी जिन्दगी है,
    ईश के वन्दन-भजन का, पल सुहाना आ गया है।
    जन्मदिन पर रूप अपना, आज मुझको भा गया है।।

    जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं सर,आपकी घर की खुशियाँ हमेशा यूँ ही बनी रहें,बहुत ही सुंदर सृजन,सादर नमन आपको

    जवाब देंहटाएं
  15. आदरणीय शास्त्रीजी,
    जन्मदिवस के शुभ अवसर पर आपको मेरी ओर से कोटि कोटि शुभकामनाएँ। ईश्वर से प्रार्थना है कि वे आपको स्वस्थ, प्रसन्न और दीर्घायु जीवन प्रदान करें, आपकी कलम से नित नई सुंदर सुंदर रचनाओं का प्रवाह भागीरथी की तरह निरंतर प्रवाहमान रहे और हमारे हिंदी ब्लॉग जगत को आपका आशीष व मार्गदर्शन मिलता रहे। सादर प्रणाम। प्रस्तुत रचना बहुत ही सुंदर है जो जीवन से संतुष्टि और सकारात्मक सोच को दर्शाती है।

    जवाब देंहटाएं
  16. अग्रज जन्मदिन पर बहुत सुंदर सृजन
    आप इसी तरह ऊर्जा से भरे रहें
    हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं
    सादर

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails