"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 12 मार्च 2009

ये गद्दार मेरा, वतन बेंच देंगे। (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)

ये गद्दार मेरा वतन बेच देंगे।
ये गुस्साल ऐसे कफन बेच देंगे।
बसेरा है सदियों से शाखों पे जिसकी,
ये वो शाख वाला चमन बेच देंगे।
सदाकत से इनको बिठाया जहाँ पर,
ये वो देश की अंजुमन बेच देंगे।
लिबासों में मीनों के मोटे मगर हैं,
समन्दर की ये मौज-ए-जन बेच देंगे।
सफीना टिका आब-ए-दरिया पे जिसकी,
ये दरिया-ए गंग-औ-जमुन बेच देंगे।
जो कोह और सहरा बने सन्तरी हैं,
ये उनके दिलों का अमन बेच देंगे।
जो उस्तादी अहद-ए-कुहन हिन्द का है,
वतन का ये नक्श-ए-कुहन बेच देंगे।
लगा हैं इन्हें रोग दौलत का ऐसा,
बहन-बेटियों के ये तन बेच देंगे।
ये काँटे हैं गोदी में गुल पालते हैं,
लुटेरों को ये गुल-बदन बेच देंगे।
हो इनके अगर वश में वारिस जहाँ का,
ये उसके हुनर और फन बेच देंगे।
जुलम-जोर शायर पे हो गर्चे इनका,
ये उसके भी शेर-औ-सुखन बेच देंगे।
‘मयंक’ दाग दामन में इनके बहुत हैं,
ये अपने ही परिजन-स्वजन बेच देंगे।
ये गद्दार मेरा वतन बेच देंगे।
ये गुस्साल ऐसे कफन बेच देंगे।

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत अच्छी रचना है. बधाई है आपको इसके लिए..
    अहद-ए-कुहन हिन्द का है, वतन का ये नक्श-ए-कुहन बेच देंगे।
    लगा हैं रोग इन्हें दौलत का ऐसा, बहन-बेटियों के ये तन बेच देंगे।
    ये काँटे हैं गोदी में गुल पालते हैं, लुटेरों को ये गुल-बदन बेच देंगे।
    हो इनके अगर वश में वारिस जहाँ का, ये उसके हुनर और फन बेच देंगे।
    सch कहा है आपने ... अभिवादन

    जवाब देंहटाएं
  2. aapne to desh ka aur ek deshbhakt ke jazbe ka sajeev chitran kar diya...........aaj ke sandarbh mein bilkul satya.

    जवाब देंहटाएं
  3. यथार्थपरक हैं पंक्तियाँ आपकी.

    जवाब देंहटाएं
  4. यदि हिन्दुस्तान से गद्दार नेताओं का
    सफाया हो जाये तो भारत फिर से
    जगद्गुरू की पदवी पा सकता है।
    शुक्रिया।

    जवाब देंहटाएं
  5. अच्छी देश भक्ति की रचना के लिए,
    बधायी।

    जवाब देंहटाएं
  6. देशभक्ति की सुन्दर रचना है।
    शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  7. शास्त्री जी !
    मझे आपकी ये लाइने
    बहुत पसन्द आयीं।
    जुलम-जोर शायर पे हो गर्चे इनका,
    ये उसके भी शेर-औ-सुखन बेच देंगे।
    ये गद्दार मेरा वतन बेच देंगे।
    मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत दिनों के बाद ब्लागजगत में
    एक अच्छी नज्म पढ़वाने के लिए,
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  9. मयंक जी।
    आप हिन्दी के साथ-साथ उर्दू
    भी अच्छा लिखते हैं।
    ... अभिवादन

    जवाब देंहटाएं
  10. मैं आपके जज्बात का कायल हूँ।
    आप बहुत अच्छा लिखते हैं।
    आपको होली की शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  11. अच्छी रचना है।
    बधायी।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails