"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

समर्थक

रविवार, 15 मार्च 2009

प्रेमी बनना सीखो। (एक बहुत पुरानी रचना) (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री मयंक)



मैं मयंक हूँ, मेरी और,

रजनी रानी की कुछ बातें हैं।

विरह -व्यथा की सौगातें,

कुछ साथ बिताई रातें हैं।।



मेरी रजनी नैहर पहुँची,

उसकी पाती एक न आयी।

मैंने एक सन्देशा लिखकर,

चिट्ठी उनको भिजवायी।।



जब उनका उत्तर पाया तो,

मन आनन्दित हुआ घनेरा।

उसने लिखा परम प्रिय साजन,

मेरा तो सब कुछ है तेरा।।



मुझको लेने जल्दी आओ,

तुम बिन तड़पत हृदय सलोना।

रीत पुरानी सभी छोड़ दो,

क्या होता है औना-गौना।।



प्यार भरा आदेश मिला,

किसमें साहस कर सके उलंघन।

जा पहुँचा रजनी को लेने,

तोड़ सभी सामाजिक बन्धन।।



सासू के घर पहुँच गया तो,

पत्नी करती देखी पूजा।

तब डाह हुई मेरे मन में क्यों,

बसा है इसके मन दूजा।।



पूछा मैंने निज सजनी से,

तुम पूजा किसकी करती हो?

पत्नी का है, पति-परमेश्वर,

फिर मन्दिर में क्या करती हो?



तब आँख मूँद वह यों बोली,

वह प्रेमी है तुम साजन हो।

वह रोम-रोम में बसता है,

तुम तो सपनों के भाजन हो।।



चुभ गया तीर शशि के मन में,

सोचा मेरा पद नीचा है।

है जीवन का जंजाल पति,

प्रेमी का ही पद ऊँचा है।।



मेरा यह कड़ुआ अनुभव है,

जीवन दर्शन मुझसे सीखो।

पति भले ही बनो न तुम,

लेकिन प्रेमी बनना सीखो।।


11 टिप्‍पणियां:

  1. मेरा यह कड़ुआ अनुभव है,

    जीवन दर्शन मुझसे सीखो।

    पति भले ही बनो न तुम,

    लेकिन प्रेमी बनना सीखो।।

    नायाब भावों की रचना.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  2. रहस्यवाद का सुंदर प्रस्तुतीकरण है यह रचना!

    जवाब देंहटाएं
  3. aapki vyatha bilkul sahi hai............har aurat pati mein premi hi dekhna chahti hai.

    जवाब देंहटाएं
  4. रहस्यवाद की अच्छी प्रणय रचना है।
    बधाई स्वीकार करें ।

    जवाब देंहटाएं
  5. शास्त्री जी।
    आपने अपने बीते दिनों की
    स्मृति को रोचक ढंग से
    कविता में बाँधा है।
    मेरी शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  6. मयंक जी।
    सुन्दर रचना है।
    हर नारी को इससे
    सबक लेना चाहिए।
    मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  7. मयंक जी।
    आपने आपकी पुरानी
    कविताएँ भी जानदार हैं।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  8. आजकल के फिल्मी गीतों से तो
    आपकी कविता लाख गुना अच्छी है।
    बधायी।

    जवाब देंहटाएं
  9. सुन्दर भावों को लिए हुए
    अच्छी कविता है।
    शुभकामनाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  10. भाई मयंक जी
    आशा है,आप स्वस्थ एवं प्रसन्न होंगे.आपको भी होली की बहुत-बहुत बधाई.
    मेरे ब्लॉग को
    समर्थन करने के लिए धन्यवाद.
    आपके सुझाव एवं मार्गदर्शन की प्रतीक्षा रहेगी.
    सप्रेम आपका साथी
    अरविन्द कुमार

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails