"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 7 जून 2009

‘‘आयी रेल-आयी रेल’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

धक्का-मुक्की रेलम-पेल।

आयी रेल-आयी रेल।।


इंजन चलता सबसे आगे।

पीछे -पीछे डिब्बे भागे।।

हार्न बजाता, धुआँ छोड़ता।

पटरी पर यह तेज दौड़ता।।



जब स्टेशन आ जाता है।

सिग्नल पर यह रुक जाता है।।

जब तक बत्ती लाल रहेगी।

इसकी जीरो चाल रहेगी।।

हरा रंग जब हो जाता है।

तब आगे को बढ़ जाता है।।


बच्चों को यह बहुत सुहाती।

नानी के घर तक ले जाती।।

छुक-छुक करती आती रेल।

आओ मिल कर खेलें खेल।।

धक्का-मुक्की रेलम-पेल।

आयी रेल-आयी रेल।।

(चित्र गूगल सर्च से साभार)

14 टिप्‍पणियां:

  1. रेल बच्चों से लेकर बड़ों तक सब को आकर्षित करती है.....आज भी..!बहुत अछे चित्र आपने लगाये है...

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर चित्रों से सजी आपकी रचनाएँ............बच्चों से लेकर बड़ों तक.......... सब को आकर्षित करती हैं............. शास्त्री जी........... प्रणाम है आपको.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत आनंद आ जाता है आप्की इन कविताओं को पढकर.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  4. सुन्दर चित्रों के साथ,
    अच्छा बाल-गीत।
    बधाई।

    जवाब देंहटाएं
  5. बड़े भाई,
    आप सचमुच "प्रकृति और बाल रचनाएँ" मनमोहक रचते हैं मेरे नज़र में ब्लॉग जगत में आप एक ऐसे कवि हैं जिन्हें मैं इस नाम से विभूषित करना चाहता हूँ.

    "प्रकृति एवं बालकवि"
    "डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’जी"

    सबके दिलों पर आप छाये हुए हैं और छाये रहें यही मेरी शुभ कामना है. "आयी रेल-आयी रेल" रचना बहुत ही अच्छी एवं प्रिय लगी.बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर रचना.. मजा आया..

    जवाब देंहटाएं
  7. "प्रकृति एवं बालकवि"
    "डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’जी"
    प्रेम फर्रूखाबादी जी।
    आपका सम्मान शिरोधार्य है,
    यह आपके प्रेम का प्रसाद है।
    आपको मेरे टूटे-फूटे शब्द पसन्द आते है,
    आभारी हूँ।

    जवाब देंहटाएं
  8. rail dekh kar to hamara dil bhi sair karne ko karne laga hai bahut badiya kavita hai

    जवाब देंहटाएं
  9. rail hamesha hi bachchon kya badon ke bhi aakrshan ka kendra rahi hai.khoobsoorat baal rachna.

    जवाब देंहटाएं
  10. आपकी सारी बाल-कविताएँ बहुत ख़ूब हैं

    जवाब देंहटाएं
  11. आकर्षक प्रस्तुति है इस बाल कविता की!

    जवाब देंहटाएं
  12. प्रस्तुति करण और रचना-दोनों बेहतरीन!!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails