"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

बुधवार, 10 जून 2009

‘‘कुछ मित्रों की टिप्पणियों का उत्तर’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


नही जानता कैसे बन जाते हैं, मुझसे गीत-गजल।
जाने कब मन के नभ पर, छा जाते हैं गहरे बादल।।

ना कोई कापी या कागज, ना ही कलम चलाता हूँ।
खोल पेज-मेकर को, हिन्दी टंकण करता जाता हूँ।।

देख छटा बारिश की, अंगुलियाँ चलने लगतीं है।
कम्प्यूटर देखा तो उस पर, शब्द उगलने लगतीं हैं।।

नजर पड़ी टीवी पर तो, अपनी हरकत कर जातीं हैं।
चिड़िया का स्वर सुन कर, अपने करतब को दिखलातीं है।।

बस्ता और पेंसिल पर, उल्लू बन क्या-क्या रचतीं हैं।
सेल-फोन, तितली-रानी, इनके नयनों में सजतीं है।।

कौआ, भँवरा और पतंग भी इनको बहुत सुहाती हैं।
नेता जी की टोपी, श्यामल गैया, बहुत लुभाती है।।

सावन का झूला हो, चाहे होली की हों मस्त फुहारें।
जाने कैसे दिखलातीं ये, बाल-गीत के मस्त नजारे।।

मैं तो केवल जाल-जगत पर, इन्हें लगाता जाता हूँ।
क्या कुछ लिख मारा है, मुड़कर नही देख ये पाता हूँ।।

जिन देवी की कृपा हुई है, उनका करता हूँ वन्दन।
सरस्वती माता का करता, कोटि-कोटि हूँ अभिनन्दन।।


11 टिप्‍पणियां:

  1. डॉ. साहब,

    मित्रों को टिप्पणी के उत्तर देती हुई कविता किसी गीत/कविता का प्रसवकाल दर्शाती हुई अच्छी लगी।

    आपका आशीर्वाद अंतरजाल के लेखक और पाठक दोनों को मिलता रहे यही शुभेच्छा है।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    जवाब देंहटाएं
  2. मयंक जी सच मे आप पर सरस्वती मा कि बहुत कृपा है ये यूँ ही बनी रहे और आप सब का मर्ग दर्श्न कर्ते rरहेम बहुत सुन्दर रचना आप्ने पाठ्कों के लिये लिखी है बहुत बहुत धन्यवाद््

    जवाब देंहटाएं
  3. मैं तो केवल जाल-जगत पर,इन्हें लगाता जाता हूँ,
    क्या कुछ लिख मारा है,मुड़कर नही देख ये पाता हूँ।

    Itne sare naye vicharon ke bich purane ki or palat kar dekhne ka samay mil bhi kaise sakta hai !

    जवाब देंहटाएं
  4. bahut badhiya .........aap isi tarah likhte rahein aur hamein apni rachnayein padhwate rahien , yahi ichcha hai.

    जवाब देंहटाएं
  5. आप कोई बने हुये कवि नही हैं. आप पर तो मां सरस्वती का वरद हस्त है. बस हम सब पर आपका आशीष और प्यार लुटाते रहिये.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  6. जिन देवी की कृपा हुई है, उनका करता हूँ वन्दन।
    सरस्वती माता का करता,कोटि-कोटि हूँ अभिनन्दन।।

    बड़े भाई
    बहुत अच्छी लगी आपकी वंदना

    जवाब देंहटाएं
  7. कमाल है शास्त्री जी।
    आप पर सचमुच माँ की कृपा है।

    जवाब देंहटाएं
  8. बेहतरीन जवाब,
    बेहतरीन नज्म।
    मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  9. यह विनम्रता तो आपका बड़प्पन है शास्त्री जी.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails