"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

गुरुवार, 11 जून 2009

‘‘गंगा-मइया बहुत महान’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

कहीं सरल है, कहीं विरल है।

बहता जिसमें पावन जल है।।


जन-जन जिससे है सुख पाता।


वो कहलाती गंगा माता।।


पर्वत से निकली लघु धारा।


मैदानों में रूप सवाँरा।।

बम-बम भोले की पुकार है।

शिव की नगरी हरिद्वार है।।


जो हर की पौढ़ी पर न्हाते।


उनके पाप सभी धुल जाते।।


कष्टों को हर लेने वाली।


यह सबको सुख देने वाली।।


काशी की महिमा अनूप है।

गंगा का मोहक स्वरूप है।।


घाटों की शोभा है न्यारी।


जय-जय-जय भोले भण्डारी।।


हरिद्वार, उज्जैन, प्रयाग।


नासिक के जागे हैं भाग।।
बारह वर्ष बाद जो आता।


महाकुम्भ है वो कहलाता।।


भक्त बहुत इसमें जाते हैं।


साधू-सन्यासी आते हैं।।


जन-मन को हर्षाने वाला।


श्रद्धा का यह पर्व निराला।।

तीनों सरिताओं का संगम।

शुद्ध जहाँ होता है तन-मन।।


जप-तप, दान-पुण्य का घर है।


यह प्रयाग प्राचीन नगर है।।


हरित-क्रांति की तुम हो खान।


गंगा-मइया बहुत महान।।


(चित्र गूगल सर्च से साभार)

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर कविता. जितनी सुन्दर रचना, उतना ही सुन्दर तस्वीर-विन्यास.बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  2. मनुमोह्क चित्रों के साथ,
    बेहद खूबसूरत कविता।
    मुबारकवाद।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहु्त सुन्दर कविता है बच्छों मे अपने धर्मस्थानों के प्रति उत्सुकता जगाती बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. MAYANK JI,
    GANAG MAIYYAA PAR BAHUT JORDAR KAVITA HAI.
    CHITRA MAN KO LUBHANE VAALE HAIN.
    BADHAI.

    जवाब देंहटाएं
  5. शुद्ध जहाँ होता है तन-मन।।
    जप-तप, दान-पुण्य का घर है।
    यह प्रयाग प्राचीन नगर है।।
    हरित-क्रांति की तुम हो खान।
    गंगा-मइया बहुत महान।।

    जितनी सुन्दर रचना, उतना ही सुन्दर तस्वीर.बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  6. जय हो गंगे मैया. बहुत सुंदर कविता.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  7. pavitra pawan ganaga ka bahut hi saarthak chitran aur photographi bhi bahut hi acchi.. badhai...!

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही पावन दर्शन एक कविता के रुप मे स्थल के रुप मे .......बहुत बहुत धन्यबाद्

    जवाब देंहटाएं
  9. सुन्दर कविता गंगा अपनी तरफ आकर्षित करती है

    जवाब देंहटाएं
  10. सुन्दर रचना, सुन्दर चित्र, सुन्दर गंगा माँ
    आभार है आपका इतनी सुन्दर रचना की लिए

    जवाब देंहटाएं
  11. हर हर गंगे, जय गंगा मैय्या

    जवाब देंहटाएं
  12. अच्छी तस्वीरों के संग अच्छी कविता, जय गंगे मैय्या

    जवाब देंहटाएं
  13. ganga maiya ki mahima ka bakhan aapne bahut khoob kiya hai sath hi chitra bahut hi sundar lage hain aisa pratit hota hai jaise sakshat darshan ho rahe hon.

    जवाब देंहटाएं
  14. हरिद्वार, उज्जैन, प्रयाग.
    नासिक के जागे हैं भाग..
    ...
    हरिद्वार और प्रयाग तो गंगा के सन्दर्भ में ठीक हैं, लेकिन उज्जैन और नासिक अच्छे से नहीं लग रहे.
    वैसे गंगा तेरा पानी अमृत, झर-झर बहता जाये.

    जवाब देंहटाएं
  15. "हरिद्वार, उज्जैन, प्रयाग.
    नासिक के जागे हैं भाग..
    ...
    हरिद्वार और प्रयाग तो गंगा के सन्दर्भ में ठीक हैं, लेकिन उज्जैन और नासिक अच्छे से नहीं लग रहे."

    मुसाफिर जाट जी (नीरज जी)
    आपकी टिप्पणी बिल्कुल वाजिब है। परन्तु सबका नजरिया भिन्न होता है। मैने मयंक ब्लॉग पर आज इत पर प्रकाश डाला भी है।
    कविता में वहाँ पर कुम्भ की बात चल रही ह। फिर भी यदि आप कहेंगे तो मैं इन शब्दों को हटा दूँगा।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails