"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

सोमवार, 8 जून 2009

‘‘इण्टर-नेट’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


करता है हर बात उजागर।

इण्टर-नेट ज्ञान का सागर।।


इससे मेल मुफ्त हो जाता।

दूर देश में बात कराता।।


कहती है प्यारी सी मुनिया।

टेबिल पर है सारी दुनिया।।


लन्दन हो या हो अमरीका।

आबूधाबी या अफ्रीका।।


गली, शहर हर गाँव देख लो।

बादल, घूप और छाँव देख लो।।


यह थाली है भरी खीर की।।

जग भर की जितनी हैं भाषा।

सबकी है इसमें परिभाषा।।

पल में नैनीताल घूम लो।

पर्वत की हर शिखर चूम लो।।


चाहे शोख नजारे देखो।

सजे-धजे गलियारे देखो।।


अन्तर्-जाल बड़े मनवाला।

कर देता है यह मतवाला।।


छोटा सा कम्प्यूटर लेलो।

फिर इससे जी भरकर खेलो।।


आओ इण्टर-नेट पढ़ाएँ।

मौज मनाएँ, ज्ञान बढ़ाएँ।।

(चित्र गूगल सर्च से साभार)

14 टिप्‍पणियां:

  1. वाह वाह मयंकजी बहुत सुन्दर है ये नेट पुराण बच्चों को खूब भायेगा बधाई

    जवाब देंहटाएं
  2. वाह वाह मयंकजी बहुत सुन्दर है ये नेट पुराण बच्चों को खूब भायेगा बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह वाह मयंकजी बहुत सुन्दर है ये नेट पुराण बच्चों को खूब भायेगा बधाई

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत बढिया मयंक जी।बढिया लिखा है।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत खूब... हमारे अपने इंटरनेट का इस तरह सुंदर गुण-गान पढ़कर दिल गदगद हो गया.. बचपन में तो इंटरनेट के बारे में सुना तक नहीं था.. फिर भी इस बाल कविता ने बचपन की यादें ताजा करा दीं..आभार

    जवाब देंहटाएं
  6. itni masoom magar sahi kavita hai ye...padhke mazaa aaya Sir...

    www.pyasasajal.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  7. वाह शाश्त्री जी आपने तो वही मिसाल पक्की करदी कि जहां ना पहुंचे रवि वहां पहुंचे कवि..

    आपने तो नेट पर कविता रच कर इसका महातम्य ही अनंत्गुणा कर दिया.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  8. net ki mahanta se itni achchi tarah parichit sirf aap hi karwa sakte hain...yeh gun sirf aap mein hi hai.

    जवाब देंहटाएं
  9. वाह शास्त्री जी............. इन्टरनेट की दुनिया से क्या की कमाल हो सकते हैं............. खूब लाजवाब बताये ...... बच्चों को तो बहुत भाएगी ये कविता .............. शुक्रिया

    जवाब देंहटाएं
  10. जालतंत्र बाबा की जय, उनकी महिमा अपरमपार...

    ---
    तख़लीक़-ए-नज़र

    जवाब देंहटाएं
  11. इंटरनेट की तमाम खूबियों का बखान करते ऐसे बालगीत को हमने कभी कल्पना भी नहीं की थी।
    मान गए शास्त्रीजी।
    बहुत सुंदर, प्रेरक, रंजक रचना है।
    मजा आ गया...

    जवाब देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर बाल गीत इन्टर नेट की महिमा मंडित करता. बहुत साधुवाद..आखिर हमारा नाम भी तो बाल गीत में है. :)

    जवाब देंहटाएं
  13. inter net ka mayajal
    hai bhut tgda
    jankari bhi lelo aur chahe to blagar bnne ka nsha bhi pal lo .
    bhut achi kavita

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails