"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

सोमवार, 1 जून 2009

‘‘रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

शीतल पवन चली सुखदायी।

रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई।


भीग रहे हैं पेड़ों के तन,

भीग रहे हैं आँगन उपवन,

हरियाली सबके मन भाई।

रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई।।


मेंढक टर्र-टर्र चिल्लाते,

झींगुर मस्ती में हैं गाते,

आमों की बहार ले आई।

रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई।।

आसमान में बिजली कड़की,

डर से सहमें लडका-लड़की,

बन्दर जी की शामत आई।

रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई।।


कहीं छाँव है, कहीं धूप है,

इन्द्रधनुष कितना अनूप है,

धरती ने है प्यास बुझाई।

रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई।।

विद्यालय भी तो जाना है,

होम-वर्क भी जँचवाना है,

मुन्नी छाता लेकर आयी।

रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई।।

(चित्र गूगल सर्च से साभार)

17 टिप्‍पणियां:

  1. धरती ने है प्यास बुझाई।
    रिम-झिम,रिम-झिम वर्षा आई।।
    Bahut hi sundar chitran. Dhanyavad.

    जवाब देंहटाएं
  2. सुंदर बाल कविता.......

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    जवाब देंहटाएं
  3. हाँ जी जून-जुलाई में आती थी अबकि मई में ही आ गयी। बहुत ही मनभावन रचना है।

    ---

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत लाजवाब कविता. मौसम का मिजाज जल्दी ही आपकी कविता के अनुरुप हो जाये तो मजा आजाये.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  5. वर्षा के मौसम का बहुत ही सुन्दर चित्रण किया है आपने.

    जवाब देंहटाएं
  6. रिमझिम रिमझिम बरसात के सुहाने मौसम को और खूबसूरत बनाती सुन्दर रचना ......

    जवाब देंहटाएं
  7. jeet ki badhaai saath hi rim-jhim varsha bhi aai hariyali hi hariyali .bahut khoob .30 may ko saras payas pe badhaai bheji rahi shayad aap dekh liye honge.

    जवाब देंहटाएं
  8. शब्दों की बरसात में भीग रहा है मन
    इसीलिए तो भाता है अपना 'उच्चारण'

    जवाब देंहटाएं
  9. सुंदर शब्दों का संयोजन!
    उच्चारण पर तो लगता है -
    बालकविताओं की
    बरसात हो रही है!

    जवाब देंहटाएं
  10. ब्लॉगर मित्रों!
    आपकी टिप्पणियों से
    मुझे निश्चितरूप से बल मिलता है
    और
    नया स्रजन करने का उत्साह
    मन में समा जाता है।
    सहृदय साथियों!
    मैं आपका आभारी हूँ।

    जवाब देंहटाएं
  11. वाह!
    वर्षा का बेहतरीन दृश्य...हमारे यहां तो आज ही बारिश हुई और हम भीगे भी..

    जवाब देंहटाएं
  12. आपकी कविता बताती है कि आप प्रकृति के हर रूप के प्रेमी है और बाल भावनाओं को उभारने में महारथ हासिल है
    श्रेष्ठ कविता और दृश्यों के लिए
    दिल से बधाई.

    जवाब देंहटाएं
  13. रिम-झिम, रिम-झिम वर्षा आई,
    इतनी सुंदर कविता लाई।

    जवाब देंहटाएं
  14. bahut hi रिम-झिम,रिम-झिम rachna hai yeh.. badhai...!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails