"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 2 जुलाई 2009

‘‘जरा सी बात’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



जरा सी बात में ही युद्ध होते हैं बहुत भारी।

जरा सी बात में ही क्रुद्ध होते हैं धनुर्धारी।।

जरा सी बात ही माहौल में विष घोल देती है।

जरा सी जीभ ही कड़ुए वचन को बोल देती है।।

मगर हमको नही इसका कभी आभास होता है।

अभी जो घट रहा कल को वही इतिहास होता है।।

17 टिप्‍पणियां:

  1. ज़रा सी बात दिल मे प्यार जगा देती है,
    अत्यन्त सुंदर और भाव पूर्ण रचना
    बधाई,

    ज़रा सी रिश्तों आग लगा देती है,
    ज़रा सी बात से पराया अपना हो जाता है,
    ज़रा सी बात पर अपनो का प्यार भी सपना हो जाता है,
    ज़रा सी बात ही इंसान को भगवान बना देती है,
    और ज़रा सी बात बिगड़ जाए तो इंसान को हैवान बना देती है.

    जवाब देंहटाएं
  2. अति सुन्दर और भावपूरण रचना आपकी ये जरा सी अभिव्यक्ति रोज़ एक सुन्दर कविता बना देती है बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. vah aaderneey sahshtri ji..
    man gaye.... jara se shbdon main aapne kitnee gahri baat kah di...
    badhai.....

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सही लिखा आप ने
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  5. जरा सी बात में ही युद्ध होते हैं बहुत भारी।

    जरा सी बात में ही क्रुद्ध होते हैं धनुर्धारी।।

    jara see baat par rachna achchhi lagi

    जवाब देंहटाएं
  6. जरा सी बात को भी आपने बहुत खूबसूरती से बयां किया है।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    जवाब देंहटाएं
  7. ज़रा सी बात को आपने जरासे में बखूबी समझा दिया ...!

    जवाब देंहटाएं
  8. कम शब्दों आप रोज़ अच्छी बात कह जाते है . हरिशंकर राढी

    जवाब देंहटाएं
  9. zara si baat........bahut badhiya.....hoti zara si hai magar pahad bana di jati hai......wakai aapne satya kah diya.

    जवाब देंहटाएं
  10. अभी जो घट रहा कल को वही इतिहास होता है।।
    सच्चाई है.
    बहुत अच्छी रचना

    जवाब देंहटाएं
  11. jabaan sabse badaa astra hai ,isiliyen kaha gaya:aisi baani boliye man ka aapa khoy ,auron ko ,sheetal kare aapahu sheetal hoe. jara si baat pe hi barson ke yaaraane chale jaaten hain ...veerubhai1947.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  12. aayeeye dekhiye court k faisle par ek cartoon....
    is samaz ka kya hoga.....

    shashtree ji....
    apne moolywan vicharo se mujhe avgat karayen.....

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails