"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

शनिवार, 18 जुलाई 2009

‘‘सुख की मुस्कान नही छाई’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



आसमान में बादल छाये, इन्द्रधनुष भी दिया दिखाई।
मस्त झखोरे ले कर आयी, पुरवा पवन चली सुखदायी।


देख-देख जिउरा हरसे, रिम-झिम बून्दों को तरसे,
नभ में हैं घनश्याम घिरे, वर्षा अब तक क्यों नही आयी?


सावन सूखा निकल गया, अब भादो आने वाला है,
ताल-तलैया रूखे-भूखे, दिन-प्रतिदिन बढ़ती मँहगाई।


आल्हा की चौपाल, बिना बारिश के सूनी-सूनी हैं,
मेघ मल्हारों की गुन्जन भी, अब तो पडत़ी नही सुनाई।


त्रस्त हुए तन-मन गर्मी से जनता आकुल-व्याकुल है,
जन मानस में अब तक भी, सुख की मुस्कान नही छाई।

14 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बात है शास्त्री जी!! बहुत सुन्दर और कोमल रचना.

    जवाब देंहटाएं
  2. सुन्दर सामयिक रचना के लिये आभार हर विश्य पर आपकी रचना अनूठे रंग लिये होती है बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. bilkul sahi kaha aapne.........barish bina sab jagah yahi haal bana hua hai.
    bahut sundar rachna

    जवाब देंहटाएं
  4. यथार्थ वादी रचना...अभी भी आस है...शायद मेघ बरसें...
    नीरज

    जवाब देंहटाएं
  5. त्रस्त हुए तन-मन गर्मी से जनता आकुल-व्याकुल है,
    जन मानस में अब तक भी, सुख की मुस्कान नही छाई।

    --काश, जल्द वर्षा हो!!!

    जवाब देंहटाएं
  6. behad sunder rahana,varun devta sun le ye arz aur aarish ho.

    जवाब देंहटाएं
  7. Shastri ji... aap waakai bahut accha likhte ho, itna seedha aur saral ki mann ko chuu jata hai ...!

    जवाब देंहटाएं
  8. देख-देख जिउरा हरसे, रिम-झिम बून्दों को तरसे,

    शास्त्रीजी
    आप ने तो मुझे आपकी कलम का कायक ही बना दिया है।

    अति सुन्दर

    आभार/शुभमगल
    मुम्बई टाईगर
    हे प्रभु यह तेरापन्थ

    जवाब देंहटाएं
  9. यहाँ तो ऐसी काली बदरिया छई हुई है कि बस क्या कहने! शायद आपकी कविता का ही असर है.

    जवाब देंहटाएं
  10. शास्त्री जी आपकी हर एक रचना इतना सुंदर है कि तारीफ के लिए अल्फाज़ कम पर जाते हैं!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails