"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

फ़ॉलोअर

रविवार, 5 जुलाई 2009

‘‘जग की यही कहानी है’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

जबरा मारे रोने ना दे, जग की यही कहानी है।

छिपी हुई खारे आँसू में, दुख की कोई निशानी है।।


मेड़ खेत को लगी निगलने, किसको दोषी ठहरायें,

रक्षक ही भक्षक बन बैठे, न्याय कहाँ से हम पायें,

अन्धा है कानून, न्याय की डगर बनी बेगानी है।

छिपी हुई खारे आँसू में, दुख की कोई निशानी है।।



दुर्जन कुर्सी पर, लेकिन सज्जन फिरते मारे-मारे,

सच्चों की अब खैर नही, झूठों के हैं वारे-न्यारे,

शौर्य-वीरता की तो मानों, थम सी गयी रवानी है।

छिपी हुई खारे आँसू में, दुख की कोई निशानी है।।


दुर्बल को बलवान लूटता, जनता को राजा लूटे,

निर्धन बिना मौत मरता, धन के बल से कातिल छूटे,

बे-ईमानों की इस कलयुग में, चमक रही पेशानी है।

छिपी हुई खारे आँसू में, दुख की कोई निशानी है।।

20 टिप्‍पणियां:

  1. मेड़ खेत को लगी निगलने, किसको दोषी ठहरायें,

    रक्षक ही भक्षक बन बैठे, न्याय कहाँ से हम पायें,

    bahut sahi kaha aapne.

    जवाब देंहटाएं
  2. मेड़ खेत को लगी निगलने, किसको दोषी ठहरायें,

    रक्षक ही भक्षक बन बैठे, न्याय कहाँ से हम पायें,
    आज का सच.
    धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  3. मेड़ खेत को लगी निगलने, किसको दोषी ठहरायें,

    रक्षक ही भक्षक बन बैठे, न्याय कहाँ से हम पायें,
    मयंक जी बिलकुल सही अभिव्यक्ति है सच मे आज न्याय पाना बहुत कठिन है आभार्

    जवाब देंहटाएं
  4. सच है शास्त्रीजी, हमारी सामाजिक दुर्दशा को आईना दिखती है यह रचना. बधाईयाँ !

    जवाब देंहटाएं
  5. लाजवाब, क्या कहने!

    http://swapnamanjusha.blogspot.com/

    जवाब देंहटाएं
  6. सादर नमस्कार,
    आपकी प्रविष्टि् की चर्चा शुक्रवार ( 07-05-2021) को
    "विहान आयेगा"(चर्चा अंक-4058)
    पर होगी। चर्चा में आप सादर आमंत्रित है.धन्यवाद

    "मीना भारद्वाज"

    जवाब देंहटाएं
  7. आज के हालातों का सही चित्रण

    जवाब देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर। ईश्वर से प्रार्थना है कि आप जल्द से जल्द स्वस्थ्य हो।

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर एवं सार्थक अभिव्यक्ति। हर पंक्ति में सटीक संदेश है। सादर प्रणाम।

    जवाब देंहटाएं

  11. दुर्बल को बलवान लूटता, जनता को राजा लूटे,

    निर्धन बिना मौत मरता, धन के बल से कातिल छूटे,

    बे-ईमानों की इस कलयुग में, चमक रही पेशानी है।

    छिपी हुई खारे आँसू में, दुख की कोई निशानी..सार्थक संदेश देती सुंदर सारगर्भित रचना ।

    जवाब देंहटाएं
  12. अन्धा है कानून, न्याय की डगर बनी बेगानी है।
    छिपी हुई खारे आँसू में, दुख की कोई निशानी है।।


    आज के हालात का सटीक चित्रण करता गीत....

    जवाब देंहटाएं
  13. आज की विसंगतियों पर सटीक रचना।
    बहुत सुंदर सृजन।
    स्वास्थ्य अब पहले से बेहतर होंगा आदरणीय ।
    सादर।

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails