"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

गुरुवार, 30 जुलाई 2009

‘‘वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



रंग भी रूप भी छाँव भी धूप भी,

देखते-देखते ही तो ढल जायेंगे।

देश भी भेष भी और परिवेश भी,

वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।


ढंग जीने के सबके ही होते अलग,

जग में आकर सभी हैं जगाते अलख,

प्रीत भी रीत भी, शब्द भी गीत भी,

एक न एक दिन तो मचल जायेंगे।

वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।


आप चाहे भुला दो भले ही हमें,

याद रक्खेंगे हम तो सदा ही तुम्हें,

तंग दिल मत बनो, संगे दिल मत बनो,

पत्थरों में से धारे निकल आयेंगे।

वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।


हर समस्या का होता समाधान है,

याद आता दुखों में ही भगवान है,

दो कदम तुम बढ़ो, दो कदम हम बढ़ें,

रास्ते मंजिलों से ही मिल जायेंगे।

वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।


गम की दुनिया से वाहर तो निकलो जरा,

पथ बुलाता तुम्हें रोशनी से भरा,

हार को छोड़ दो, जीत को ओढ़ लो,

फूल फिर से बगीचे में खिल जायेंगे।

वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।


15 टिप्‍पणियां:

  1. sसकारात्मक और सार्थक अभिव्यक्ति लिये सुन्दर रचना के लिये बहुत बहुत बधाई अज्ज उच्छारण का रन्ग सावन की हरियाली से खूब निखर निख्रा सा है आभार्

    जवाब देंहटाएं
  2. के दुनिया से वाहर तो निकलो जरा,
    पथ बुलाता तुम्हें रोशनी से भरा,
    हार को छोड़ दो, जीत को ओढ़ लो,
    फूल फिर से बगीचे में खिल जायेंगे।
    वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।

    बहुत बहुत बधाई !!!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्‍दर रचना आभार्

    जवाब देंहटाएं
  4. पत्थर कहां पिघलते हैं डाक्टर साहब.

    जवाब देंहटाएं
  5. अनुराग शर्मा जी!
    आपका आभार।
    विसंगति को ठीक कर दिया है।

    जवाब देंहटाएं
  6. bahut hi sundar, yatharth ko jatlaati kavita.. Badhai swekaare..

    जवाब देंहटाएं
  7. उम्मीद की अलख जगाती सुन्दर रचना |आपके कुछ और गीत पढ़े , मुक्तक में यौवन ढल जाने पर सबकी गर्दन बहुत हिला करती है वाली पंक्ति ने बहुत हँसाया , कमाल है !

    जवाब देंहटाएं
  8. वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे...
    बहुत ही सुन्‍दर रचना.

    जवाब देंहटाएं
  9. aaj ki rachna padhte padhte ek get yaad aa gaya aisa laga jaise wo hi tarz ho---------aap yun hi agar humse milte rahe dekhiye ek din pyar ho jayega.
    bahut hi khoobsoorat likha hai.

    जवाब देंहटाएं
  10. हर समस्या का होता समाधान है,याद आता दुखों में ही भगवान है,दो कदम तुम बढ़ो, दो कदम हम बढ़ें,रास्ते मंजिलों से ही मिल जायेंगे।वक्त के साथ सारे बदल जायेंगे।।
    ek sakaratmak drishikon deti hui sarthak kavita..
    padne par man mein achhi bavna jagati hai..
    lagta hai aapke kamre ki saaj-sajja kuch badal gayi hai, haritimaa kuch pushpon ke saath, sundar, manoram..

    जवाब देंहटाएं
  11. अदा जी!
    हैडर में अनार (दाड़िम) का पेड़ है और उस पर मात्र एक पुष्प फल के आने की आशा जगा रहा है।

    जवाब देंहटाएं
  12. अत्यन्त सुंदर और शानदार रचना के लिए बधाई!

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails