"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 15 जुलाई 2009

‘‘पानी नदारत है, आने वाली कयामत है?’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)


सावन का महीना
बादलों की
आँख-मिचौली
और
पानी नदारत है,
-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-
चारों ओर
सूखा और सिर्फ सूखा
प्यासे हैं बाग, तड़ाग,
व्यर्थ हो गई
सब प्रार्थना
और
इबादत हैं
-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-
खेतों में
उड़ रही है धूल
चमन में
मुरझा रहे हैं फूल
क्या
आने वाली
कयामत है?
-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-०-

12 टिप्‍पणियां:

  1. ghabraiye mat itni jaldi qayamat nhi aati.........ye to har saal ka haal hai.
    jab tak prakriti ka dohan hota rahega is haal ke liye taiyaar rahna padega.
    bahut hi badhiya prashn uthaya hai aapne.

    जवाब देंहटाएं
  2. यदि वर्षा नहीं हुई तो वास्तव में दुर्भिक्ष हो जायेगा.

    जवाब देंहटाएं
  3. प्रकृति से खिलवाड़ जारी रहा तो कयामत निश्चित है..आभार

    जवाब देंहटाएं
  4. Sookhe ki maar kaheen to kaheen baad ka khatraa........ upar vale ke khel bhi niraale hain

    जवाब देंहटाएं
  5. आज बरसात हुई है दिल्ली में.. नहीं तो कयामत ही थी..

    जवाब देंहटाएं
  6. सामयिक चिंता है आपकी, लेकिन प्रकृति के साथ हम जो कर रहे हैं, यह उसी का परिणाम है. वर्षा भी एक-आध महीना आगे खिसक गई है-- ऐसा लगता है ! क्यों न हम थोडी और प्रतीक्षा करें बादलों की ? क्या ख़याल है शास्त्रीजी ?? --आ.

    जवाब देंहटाएं
  7. yeh sach mein ek kayamat hai..
    jyada bhi kayamat hai
    kam bhi kayamat hai

    जवाब देंहटाएं
  8. बहुत ही बुरा होगा, मंहगाई पहले ही है, ओर अगर हालात ऎसे ही रहे तो ..... काश ऎसा ना हो जल्द ही पानी बरसे.

    जवाब देंहटाएं
  9. इश्वर से प्रार्थना ही कर सकते हैं!! सो किये जा रहे हैं.

    जवाब देंहटाएं
  10. बारिश न होने से ही
    महँगाई चरम पर है।

    जवाब देंहटाएं
  11. खेतों में उड़ रही है धूल
    चमन में मुरझा रहे हैं फूल
    क्या आने वाली कयामत है?"
    Agr yahi haal raha to
    kyamat door nahi.
    Aapne bilkul sahi likha hai.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails