"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 22 जुलाई 2009

"याद वो मंजर पुराने आ गये हैं" (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)"


फिर चली पुरवाई बादल छा गये हैं।
याद वो मंजर पुराने आ गये हैं।।

पेड़ के नीचे अचानक बैठ जाना,
गीत लिखना और उनको गुनगुनाना,
शब्द बनकर छन्द लय को पा गये हैं।
याद वो मंजर पुराने आ गये हैं।।

झूमते भौंरो का गुंजन-गान गाना,
मस्त होकर सुमन का सौरभ लुटाना,
फूल-पत्ते भी नजर को भा गये हैं।
याद वो मंजर पुराने आ गये हैं।।

झाँक कर खिड़की से उनका मुस्कुराना,
नजर मिलते ही नजर अपनी झुकाना,
नयन में सपने सुहाने छा गये हैं।
याद वो मंजर पुराने आ गये हैं।।

12 टिप्‍पणियां:

  1. bade bhi sukhad pal rahe honge wo jise aapne itane sundar dhang se piroya hai..

    bahut hi sundar kavita..

    जवाब देंहटाएं
  2. वो पुराने दिन तो शायद वापस नहीं आ सकते....लेकिन आपने पुराणी यादों को जरूर ताज़ा कर दिया...!सूखे फूलों से भी खुशबू आने लगी है...बहुत ही अच्छी रचना....

    जवाब देंहटाएं
  3. शास्त्री जी, एक और बेहतरीन कृति, गुस्ताखी माफ़, आजकल आप बोतल पे बोतल(दर्द-ए-गम की) खाली किये जा रहे हो, :-))

    जवाब देंहटाएं
  4. ब्लॉगर मित्रों!

    संशोधन करने के चक्कर में-
    भूलवश ‘‘याद वो मंजर पुराने आ गये हैं’’ पोस्ट डिलीट हो गयी थी। इसके साथ ही सारी टिप्पणियाँ भी डिलीट हो गयी हैं। इसलिए ‘‘याद वो मंजर पुराने आ गये हैं’’ को दुबारा पोस्ट किया है।

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुंदर लिखा है आपने...याद आ गया वो मंजर

    जवाब देंहटाएं
  6. झाँक कर खिड़की से उनका मुस्कुराना,
    नजर मिलते ही नजर अपनी झुकाना,
    नयन में सपने सुहाने छा गये हैं।
    याद वो मंजर पुराने आ गये हैं।।

    mujhe to ye bha gayi.bahut hi sundar badhai!

    जवाब देंहटाएं
  7. सुन्दर गीत..आपका आभार प्रस्तुत करने का.

    जवाब देंहटाएं
  8. मयंक जी बहुत सुन्दर रचना है बहुत बहुत बधाई

    जवाब देंहटाएं
  9. शास्त्री जी, इतना सुन्दर गीत है कि इसे गुनगुनाने को जी चाहता है...

    जवाब देंहटाएं
  10. बहुत ख़ूबसूरत गीत लिखा है आपने शास्त्री जी!

    जवाब देंहटाएं
  11. बहुत खूबसूरत और नायाब गीत.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails