"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

बुधवार, 11 फ़रवरी 2009

तकदीर बदल जाती है (डॉ0 रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)

आमन्त्रण में बल हो तो ,
तस्वीर बदल जाती है।
पत्थर भी भगवान बनें,
तकदीर बदल जाती है।।

अपने अधरों को सीं कर,
इक मौन निमन्त्रण दे दो,
नयनों की भाषा से ही-
मुझको आमन्त्रण दे दो,
भँवरे की बिन गुंजन ही-
तदवीर बदल जाती है।
आमन्त्रण में बल हो तो ,
तस्वीर बदल जाती है।।

सरसों फूली, टेसू फूले,
फूल रहा है, सरस सुमन,
होली के रंग में भीगेंगे,
आशाओं के तन और मन,
आलिंगन के सागर में-
ताबीर बदल जाती है।
आमन्त्रण में बल हो तो,
तस्वीर बदल जाती है।।

पगचिन्हों का ले अवलम्बन,
आगे बढ़ता जाता हूँ ,
मन के दर्पण में राही की,
धड़कन पढता जाता हूँ,
पल-पल में परछांई की,
तासीर बदल जाती है।
आमन्त्रण में बल हो तो,
तस्वीर बदल जाती है।।

11 टिप्‍पणियां:

  1. सरसों फूली, टेसू फूले,
    फूल रहा है, सरस सुमन,
    होली के रंग में भीगेंगे,
    आशाओं के तन और मन,
    आलिंगन के सागर में-
    ताबीर बदल जाती है।
    आमन्त्रण में बल हो तो,
    तस्वीर बदल जाती है।।

    बहुत सुंदर लिखा आपने ..

    जवाब देंहटाएं
  2. भावभीनी स्कारात्मक रचना..

    आमन्त्रण में बल हो तो ,
    तस्वीर बदल जाती है।
    पत्थर भी भगवान बनें,
    तकदीर बदल जाती है।।

    तकदीर, तस्वीर, तासीर को बदलने के लिये जो चीज चाहिये वो विश्वास और कर्म ही है..
    सुन्दर रचना के लिये बधाई

    जवाब देंहटाएं
  3. vakaee amantran me bal ho to tasveer badal jati hai bahut hi sunder abhivyakti hai badhaai

    जवाब देंहटाएं
  4. आमन्त्रण में बल हो तो ,
    तस्वीर बदल जाती है।।

    **बहुत ही सुंदर कविता है .

    जवाब देंहटाएं
  5. धन्यवाद, आदरणीय टिप्पणीकारों!
    कविता कैसे की जाती है? मैं यह समझ न पाया।
    माता ने ही लिखवाया है,मैंने केवल कलम चलाया।।

    जवाब देंहटाएं
  6. वाह ! बहुत ही सुंदर ,भावपूर्ण और प्रवाहमयी गीत लिखा है आपने.आनंद आ गया पढ़कर.आभार.

    जवाब देंहटाएं
  7. ली, टेसू फूले,
    फूल रहा है, सरस सुमन,
    होली के रंग में भीगेंगे,
    आशाओं के तन और मन,
    आलिंगन के सागर में-
    ताबीर बदल जाती है।
    आमन्त्रण में बल हो तो,
    तस्वीर बदल जाती है।।

    वाह जी वाह आनंद आ गया पता नहीं क्‍यों इतने दिनों तक मैं इस अमृत रस रूपी ब्‍लाग से महरूम रह गया कभी आना हीं नहीं हुआ लेकिन अब यह गलती दोबारा नहीं कर सकता और इस अमृत का रसपान तो करूंगा ही

    बहुत ही अच्‍छी रचनाएं लिखते हैं आप

    जवाब देंहटाएं
  8. सरसों फूली, टेसू फूले,
    फूल रहा है, सरस सुमन,
    होली के रंग में भीगेंगे,
    आशाओं के तन और मन,
    आलिंगन के सागर में-
    ताबीर बदल जाती है।
    आमन्त्रण में बल हो तो,
    तस्वीर बदल जाती है।।

    माफ करना सरसों फूली कट गया था सर

    जवाब देंहटाएं
  9. का बात है शास्त्री जी
    वाह-वाह..वह-वह
    बड़े शास्त्रढंग से आजकल खूब लसिया रहे हो शास्त्री जी. रचना तो बड़ी जोरदार लिखी है.
    बधाई हो बधाई.

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails