"उच्चारण" 1996 से समाचारपत्र पंजीयक, भारत सरकार नई-दिल्ली द्वारा पंजीकृत है। यहाँ प्रकाशित किसी भी सामग्री को ब्लॉग स्वामी की अनुमति के बिना किसी भी रूप में प्रयोग करना© कॉपीराइट एक्ट का उलंघन माना जायेगा।

मित्रों!

आपको जानकर हर्ष होगा कि आप सभी काव्यमनीषियों के लिए छन्दविधा को सीखने और सिखाने के लिए हमने सृजन मंच ऑनलाइन का एक छोटा सा प्रयास किया है।

कृपया इस मंच में योगदान करने के लिएRoopchandrashastri@gmail.com पर मेल भेज कर कृतार्थ करें। रूप में आमन्त्रित कर दिया जायेगा। सादर...!

और हाँ..एक खुशखबरी और है...आप सबके लिए “आपका ब्लॉग” तैयार है। यहाँ आप अपनी किसी भी विधा की कृति (जैसे- अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कर सकते हैं।

बस आपको मुझे मेरे ई-मेल roopchandrashastri@gmail.com पर एक मेल करना होगा। मैं आपको “आपका ब्लॉग” पर लेखक के रूप में आमन्त्रित कर दूँगा। आप मेल स्वीकार कीजिए और अपनी अकविता, संस्मरण, मुक्तक, छन्दबद्धरचना, गीत, ग़ज़ल, शालीनचित्र, यात्रासंस्मरण आदि प्रकाशित कीजिए।

यह ब्लॉग खोजें

समर्थक

रविवार, 8 फ़रवरी 2009

एक शेर में परिचय-,एक गजल


रूमानी शायर गुरू सहाय भटनागर ‘‘बदनाम’’
आवास-विकास, खटीमा (उत्तराखण्ड)
मोबाइलः 09411282774

एक ढलती शाम, मेरी जिन्दगी,
प्यार का उपनाम, मेरी जिन्दगी।
हर किसी से हँस के है मिलती गले-
इसलिए बदनाम, मेरी जिन्दगी।।

तेरी मुहब्बत का हमको, गुजरा वो जमाना याद आया।
रंगीं वो मंजर याद आये, वो शहर पुराना याद आया।।

मिलते थे कहीं दीवानों से, चलते थे कहीं बेगानों से,
उस राह-ए मुहब्बत का ऐ दिल, इक-इक अफसाना याद आया।।

वो भी तो इक जमाना था, तुम पलके बिछाये रहते थे,
हमको तो मुहब्बत का तेरी, हर राज पुराना याद आया।।

मिट जायेंगे हम, मर जायेंगे हम, इस राह-ए मुहब्बत में इक दिन,
उन तेरी फरेबी नजरों का, ‘बदनाम’ फसाना याद आया।।

7 टिप्‍पणियां:

  1. बदनाम जी।
    जरा मुझे भी तो उस हसीना का नाम बता दो ।
    (आपकी श्रीमती) आशा भटनागर

    जवाब देंहटाएं
  2. आदरणीया भाभी जी!
    बदनाम जी ने आप ही के लिए यह गजल लिखी
    है । इनकी ख्वाबो की महबूबा आप ही तो रही है।

    जवाब देंहटाएं
  3. nahin nahin iske liye jaanch commirree baithani chahiye, badnaam koi aise hi badnaam hota hai,uske peechhe koi shaitani kaam hota hai.

    kashama karen bhatnagar ji.

    bahut achchi rachna hai .badhai sweekaren.

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही जानदार लिखा है आपने ..... जैसे
    तेरी मुहब्बत का हमको, गुजरा वो जमाना याद आया।
    रंगीं वो मंजर याद आये, वो शहर पुराना याद आया।।...

    पर ये हसीना है कौन .....

    अनिल कान्त
    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    जवाब देंहटाएं
  5. मेरी "आशा", मेरी उम्मीद की दुनिया तुम हो।
    थी कभी ख्वाब में, रंगीन वो दुनिया तुम हो।

    जवाब देंहटाएं
  6. क्या बात है बदनाम साहब,
    एक तो आपका परिचय बेहतरीन.....

    एक ढलती शाम, मेरी जिन्दगी,
    प्यार का उपनाम, मेरी जिन्दगी।
    हर किसी से हँस के है मिलती गले-
    इसलिए बदनाम, मेरी जिन्दगी।।

    दूसरा इतनी शिद्दत कि बुलाते ही महबूब हाजिर....
    पहला कमेन्ट ही उन्होंने मारा....

    वैसे आंटीजी जबरदस्त है... कुछ छुप नहीं सकता उनसे....
    बेवजह ही मेहनत मत करना....

    जवाब देंहटाएं
  7. एक वरिष्ठ और प्रतिष्ठित शायर को एक नौसिखिए कलमघिस्सू का सलाम पहुँचे !

    जवाब देंहटाएं

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।

LinkWithin

Related Posts with Thumbnails